मध्यकालीन भारत का इतिहास सतीश चन्द्र pdf in hindi

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको मध्यकालीन भारत का इतिहास देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से इसे डाउनलोड कर सकते हैं और यहां से Adhunik Bharat Ka Itihas Pdf डाउनलोड कर सकते हैं।

 

 

 

 

मध्यकालीन भारत का इतिहास Download

 

 

 

 

काबुल की सीमित आय भी पंजाब परगना को विजित करने का एक कारण थी। उसका (बाबर) बद खुशां कंधार और काबुल पर था जिनसे सेना की अनिवार्यताएं पूरी करने के लिए भी आय नहीं होती थी। वास्तव में कुछ सीमा प्रांतो पर सेना बनाये रखने और प्रशासन के काम में व्यय आमदनी से ज्यादा था।

 

 

 

सीमित आय साधनो के कारण बाबर अपने बेगों और परिवार के लिए अधिक चीजे उपलब्ध नहीं कर सकता था। उसे काबुल पर उजबेक आक्रमण का भी भय था। वह भारत को बढियां शरण स्थल समझता था।

 

 

 

उसकी दृष्टि में उजबेको के विरुद्ध अभियानों के लिए भी यह अच्छा स्थल था। उत्तर पश्चिम भारत की राजनितिक स्थिति ने बाबर को भारत आने का अवसर प्रदान किया। 1517 में सिकंदर लोदी की मृत्यु हो गयी थी और इब्राहिम लोदी गद्दी पर बैठा था।

 

 

 

एक केंद्राभिमुखी बड़ा सम्राज्य स्थापित करने के इब्राहिम के प्रयत्नों ने अफगानो और राजपूतो दोनों को सावधान कर दिया था। अफगान सरदारों में सर्वाधिक शक्तिशाली सरदार दौलत खां लोदी था जो पंजाब का गवर्नर था। पूरा पढ़ने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करे।

 

 

 

मध्यकालीन भारत का इतिहास सतीश चन्द्र pdf

 

 

 

 

Download

 

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट मध्यकालीन भारत का इतिहास आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें।

 

 

 

Leave a Comment