आरती संग्रह Pdf | Aarti Sangrah Pdf Download

मित्रों इस पोस्ट में हम आपको Aarti Sangrah Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Aarti Sangrah Pdf free download कर सकते हैं और आप यहां से दुर्गा स्तुति Pdf  भी डाउनलोड कर सकते है। 

 

 

 

Aarti Sangrah Pdf

 

 

 

 

 

 

 

आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ।।
जाके बल से गिरिवर कांपे । रोग दोष जाके निकट न झांके ।।


अंजनि पुत्र महा बलदाई । सन्तन के प्रभु सदा सहाई ।।
दे बीरा रघुनाथ पठाए । लंका जारि सिया सुधि लाए ।।

लंका सो कोट समुद्र सी खाई । जात पवनसुत बार न लाई ।।
लंका जारि असुर संहारे । सियारामजी के काज सवारे ।।

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे । आनि संजीवन प्राण उबारे ।।
पैठि पाताल तोरि जम-कारे । अहिरावण की भुजा उखारे ।।

बाएं भुजा असुरदल मारे । दाहिने भुजा संतजन तारे ।।
सुर नर मुनिजन आरती उतारें । जय जय जय हनुमान उचारें ।।


कंचन थार कपूर लौ छाई । आरती करत अंजना माई ।।
लंक विध्वंश किये रघुराई । तुलसीदास प्रभु आरती गाई ।।

जो हनुमानजी की आरती गावे । बसि बैकुण्ठ परम पद पावे ।।

 

 

Laxmi Aarti in Hindi

 

 

 

ॐ जय लक्ष्मी माता, तुमको निस दिन सेवत |
मैया जी को निस दिन सेवत, हर विष्णु विधाता ||

ॐ जय लक्ष्मी माता ||

उमा रमा ब्रम्हाणी, तुम ही जग माता |
सूर्य चन्द्र माँ ध्यावत, नारद ऋषि गाता ||

ॐ जय लक्ष्मी माता ||

दुर्गा रूप निरंजनी, सुख सम्पति दाता |
जो कोई तुम को ध्यावत, ऋद्धि सिद्धि धन पाता ||

ॐ जय लक्ष्मी माता ||

तुम पाताल निवासिनी, तुम ही शुभ दाता |
कर्म प्रभाव प्रकाशिनी, भव निधि की दाता ||

ॐ जय लक्ष्मी माता ||

जिस घर तुम रहती तहँ सब सदगुण आता |
सब सम्ब्नव हो जाता, मन नहीं घबराता ||

ॐ जय लक्ष्मी माता ||

तुम बिन यज्ञ न होता, वस्त्र न कोई पाता |
खान पान का वैभव, सब तुम से आता ||

ॐ जय लक्ष्मी माता ||

शुभ गुण मंदिर सुन्दर, क्षीरोदधि जाता |
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता ||

ॐ जय लक्ष्मी माता ||

महा लक्ष्मीजी की आरती, जो कोई जन गाता |
उर आनंद समाता, पाप उतर जाता ||

ॐ जय लक्ष्मी माता ||

॥ इति॥

 

 

Aarti Sangrah Pdf Download

 

 

 

Aarti Sangrah Pdf
Aarti Sangrah Pdf नीचे दी गयी लिंक से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

हनुमान तंत्र विद्या Pdf Download

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

 

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Aarti Sangrah Pdf आपको कैसी लगी कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment