All Vedas in Hindi Pdf / आल वेद डाउनलोड Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको All Vedas in Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से All Vedas in Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Ganpati Atharva Shirsha Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

All Vedas in Hindi Pdf Download

 

 

 

All Vedas in Hindi Pdf
अथर्व वेद पार्ट 1 Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

All Vedas in Hindi Pdf
अथर्व वेद पार्ट 2 Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

All Vedas in Hindi Pdf
ऋग्वेद Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

All Vedas in Hindi Pdf
सामवेद Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

All Vedas in Hindi Pdf
यजुर्वेद Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

All Vedas in Hindi Pdf
Rahasya Pustak Marathi Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

इन चौदह मंत्रो द्वारा क्रमशः एक से लेकर चौदह मुख वाले रुद्राक्ष को धारण करने का विधान है। साधक को चाहिए कि वह निद्रा और आलस्य का त्याग करके श्रद्धा भक्ति से सम्पन्न हो सम्पूर्ण मनोरथो की सिद्धि के लिए उक्त मंत्रो द्वारा उन-उन रुद्राक्षों को धारण करे।

 

 

 

 

रुद्राक्ष की माला धारण करने वाले पुरुष को देखकर भूत, प्रेत, डाकिनी, पिशाच तथा जो अन्य द्रोहकारी राक्षस आदि है वे सब के सब दूर भाग जाते है। जो कृत्रिम अभिचार आदि प्रयुक्त होते है वे सब रुद्राक्षधारी को देखकर सशंक हो दूर खिसक जाते है।

 

 

 

 

पार्वती! रुद्राक्ष मालाधारी पुरुष को देखकर मैं शिव, दुर्गा देवी, विष्णु भगवान, सूर्य, गणेश तथा अन्य देवता भी प्रसन्न हो जाते है। महेश्वरी! इस प्रकार रुद्राक्ष की महिमा को जानकर धर्म की वृद्धि के लिए भक्ति पूर्वक पूर्वोक्त मंत्रो द्वारा विधिवत उसे धारण करना चाहिए।

 

 

 

 

मुनीश्वर! भगवान शंकर ने देवी पार्वती के सामने जो कुछ कहा था वह सब तुम्हारे प्रश्न के अनुसार मैंने कह सुनाया। मुनीश्वरो! मैंने तुम्हारे समक्ष इस विद्येश्वर संहिता का वर्णन किया है। यह संहिता सम्पूर्ण सिद्धियों को देने वाली तथा भगवान शिव की आज्ञा से नित्य मोक्ष प्रदान करने वाली है।

 

 

 

 

जो विश्व की उत्पत्ति स्थिति और लय आदि के एकमात्र कारण है। गौरी गिरिराजकुमारी उमा के पति है तत्वज्ञ है जिनकी कीर्ति का कही अंत नहीं है जो माया के आश्रय होकर भी उससे अत्यंत दूर है तथा जिनका स्वरुप अचिन्त्य है उन विमल बोध स्वरुप भगवान शिव को प्रणाम करता हूँ।

 

 

 

 

मैं स्वभाव से ही उन अनादि शांत स्वरुप एकमात्र पुरुषोत्तम शिव की वंदना करता हूँ जो अपनी माया से इस सम्पूर्ण विश्व की सृष्टि करके आकाश की भांति इसके अंदर और बाहर भी स्थित है। जैसे लोहा चुंबक से आकृष्ट होकर उसके पास ही लटका रहता है।

 

 

 

 

 

उसी प्रकार ये सारा जगत हमेशा सब ओर जिसके आस-पास ही भ्रमण करते है जिन्होंने अपने से ही इस प्रपंच को रचने की विधि बतायी थी जो सबके अंदर अन्तर्यामी रूप से विराजमान है तथा जिनका अपना स्वरुप अत्यंत गूढ़ है उन भगवान शिव की मैं सादर वंदना करता हूँ।

 

 

 

 

व्यास जी कहते है – जगत के पिता भगवान शंकर जगन्माता कल्याणमयी पार्वती तथा उनके पुत्र गणेश जी को नमस्कार करके हम इस पुराण का वर्णन करते है। एक समय की बात है नैमिषारण्य में निवास करने वाले शौनक आदि सभी मुनियो ने उत्तम भक्ति भाव के साथ सूत जी ने पूछा।

 

 

 

 

ऋषि बोले – महाभाग सूत जी! विद्येश्वर संहिता की जो साध्य साधन खंड नामवाली शुभ एवं उत्तम कथा है उसे हम लोगो ने सुन लिया। उसका आदि भाग बहुत ही रमणीय है तथा वह शिव भक्तो पर भगवान शिव का वात्सल्य स्नेह प्रकट करने वाली है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट All Vedas in Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और All Vedas in Hindi Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment