भक्तमाल कथा हिंदी Pdf | Bhaktmal book in Hindi pdf

अगर आप Bhaktmal book in Hindi pdf डाउनलोड करना चाहते हैं तो बिल्कुल सही जगह पर आप आये हैं, आप नीचे की लिंक से Bhaktmal book in Hindi pdf डाउनलोड कर सकते हैं और यहां से Jain Tantra Shastra PDF In Hindi कर सकते हैं।

 

 

 

 

 

 

Bhaktmal book pdf

 

 

 

पुस्तक का नाम भक्तमाल कथा हिंदी Pdf
पुस्तक के लेखक श्री नाभा जी
पेज 1035
साइज 40.6 MB
भाषा हिंदी

 

 

 

 

पुस्तक के बारे में—-

 

 

शांत, दास्य, सख्य, वात्सल्य और उज्ज्वल श्रृंगार भक्ति के इन पांचो रसो का वर्णन भक्तिरस बोधिनी में विस्तार से किया गया है। पाठक अपने मन में विचार करने से ही इस टीका का चमत्कार जान पाएंगे कि भक्ति के पांच स्वरूपों का मैंने कैसा अनूठा वर्णन किया है।

 

 

 

जिनके नेत्रों में न तो कभी प्रेमानंद के आंसू आते है और न शरीर में रोमांच होता है। उन नीरस हृदय व्यक्तियों को भी भाव रस के समुद्र में डुबाकर मैंने तृप्त कर दिया है। जब तक वे इस भक्तिरस बोधिनी से दूर रहते है तभी तक भक्ति से विमुख रहते है। किन्तु यदि इसका रस तनिक भी उनके कानो में पड़ गया तो उनका हृदय चूर चूर होकर भक्तिरस में सरावोर हो जायेगा।

 

 

 

शांत रस – शांत रस का स्थाई भाव है निर्वेद। इसमें सांसारिक विषयो से अलग होकर भक्त इष्ट को परब्रह्म परमात्मा रूप से देखता है और फिर उसी की भक्ति में तल्लीन होकर वह शांति लाभ करता है। ज्ञानमार्गी भक्त पहले ज्ञान के द्वारा संसार के विषयो से विरत होकर श्रीकृष्ण को ही परमात्मा मानकर प्रेम करते है।

 

 

 

 

 

 

 

इस आर्टिकल में दिये गए किसी भी Pdf Book या Pdf File का इस वेबसाइट के ऑनर का अधिकार नहीं है। यह पाठको के सुविधा के लिये दी गयी है। अगर किसी को भी इस आर्टिकल के पीडीएफ फ़ाइल से कोई आपत्ति है तो इस मेल आईडी newsbyabhi247@gmail.com पर मेल करें।

 

 

 

 

 

 

यह पोस्ट Bhaktmal book in Hindi pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment