भये प्रगट कृपाला Pdf | Bhaye Pragat Kripala Lyrics in Hindi Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Bhaye Pragat Kripala Lyrics देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से इसे डाउनलोड कर सकते हैं और यहां से Rigveda in Hindi Pdf Download डाउनलोड कर सकते हैं।

 

 

 

Bhaye Pragat Kripala Lyrics Download

 

 

 

भये प्रगट कृपाला दीन दयाला ,यशुमति के हितकारी ।

हर्षित महतारी रूप निहारी,मोहन मदन मुरारी ॥ 1॥

 

 

कंसासुर जाना अति भय माना ,पुतना बेगि पठाई ।

सो मन मुसुकाई हर्षित धाई ,गई जहाँ जदुराई ॥ 2॥

 

 

तेहि जाइ उठाई ह्रदय लगाई,पयोधर मुख में दीन्हें ।

तब कृष्ण कन्हाई मन मुसुकाई ,प्राण तासु हरि लीन्हें ॥ 3॥

 

 

जब इन्द्र रिसाये मेघ बुलाये ,वशीकरण ब्रज सारी ।

गौवन हितकारी मुनि मन हारी,नखपर गिरिवर धारी ॥ 4॥

 

 

कंसासुर मारे अति हंकारे,वत्सासुर संहारे ।

बक्कासुर आयो बहुत डरायो,ताकर बदन बिडारे ॥ 5॥

 

 

अति दीन जानि प्रभु चक्रपाणी,ताहि दीन निज लोका ।

ब्रह्मासुर राई अति सुख पाई ,मगन हुये गये शोका ॥ 6॥

 

 

यह छन्द अनूपा है रस रूपा,जो नर याको गावै ।

तेहि सम नहिं कोई त्रिभुवन माँहीं ,मन-वांछित फल पावै ॥ 7॥

 

 

दोहा -नन्द यशोदा तप   कियो,मोहन सो मन लाय ।

तासों हरि तिन्ह सुख दियो ,बाल भाव दिखलाय ॥

 

 

 

Bhaye Pragat Kripala Lyrics in Hindi Pdf

 

 

 

 

Download

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Bhaye Pragat Kripala Lyrics आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें।

 

 

 

Leave a Comment