Chalta Firta Pret Pdf / चलता-फिरता प्रेत pdf download

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Chalta Firta Pret Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Chalta Firta Pret Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Brain rules book in Hindi Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Chalta Firta Pret Pdf Download

 

 

 

Chalta Firta Pret Pdf
Chalta Firta Pret Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Chalta Firta Pret Pdf
Andha Yug Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

मिलन उन दोनों से बोला – तुम लोग यहां से जाओ हम स्वयं अपना प्रयास जारी रखेंगे। हारु मिलन से बोला – अगर कही संकट आए जाये तो हम्मर नाम लेकर बुलाइयेगा मैं तुरंत ही आपकी सहायता में उपस्थित हो जाऊंगा। इतना कहकर हारु अपने अनुचर मेरु के साथ अपने निवास मंदक पर्वत पर चला गया।

 

 

 

 

मिलन की समझ में नहीं आ रहा था कि वह किस तरह से फिर सुमन परी को प्राप्त कर सकता है। मिलन सोचने लगा इस विषय में हमे हारु से कोई उपाय पूछना चाहिए फिर उसने हारु का नाम लेकर जोर से आवाज लगा दिया। हारु तक मिलन की आवाज पहुँच गयी थी। वह तुरंत मिलन के सामने उपस्थित हो गया।

 

 

 

 

मिलन हारु से बोला – तुम्हे यहां के सभी स्थान की जानकारी अवश्य होगी क्या तुम हमे सुमन परी से मिलने का कोई उपाय बता सकते हो? हारु बोला – हमारे पास इतनी शक्ति नहीं है कि मैं आपको सुमन परी से मिला सकूँ? लेकिन मैं आपको उस सरोवर के पास अवश्य पहुंचा दूंगा जहां परीलोक से बहुत सी परियां स्नान करने के लिए आती है।

 

 

 

 

मिलन उत्सुक होकर बोला – तुम हमे जल्दी से उस सरोवर पर पहुंचाओ। हारु बोला – मैं आपको उस सरोवर से कुछ दूर पहले ही छोड़ दूंगा आगे का रास्ता आपको तय करना है क्योंकि उस सरोवर पर मनुष्य, देव, दानव सभी के लिए जाना संभव नहीं है?

 

 

 

 

वहां जो भी अपने स्वरुप में जायेगा वह पत्थर की मूर्ति के रूप में परिवर्तित हो जायेगा। मिलन हारु से पूछा – वहां कौन से रूप में जाना उचित होगा? हारु को अपने गुरु मत्स्यानंद की एक बात याद हो गयी जब उन्होंने कहा था कि परियो के स्नान वाले सरोवर में किसी भी नर या मादा के रूप में कोई नहीं जा सकता है।

 

 

 

 

वहां सिर्फ किन्नर के स्वरुप में ही जान संभव है। हारु की बातो से मिलन के मन में एक उम्मीद की किरण पैदा हो गयी उसने हारु से कहा – हमे उस सरोवर के समीप पहुंचाओ। हारु नामक वह भयानक दैत्य बोला – आप हमारे ऊपर सवार हो जाइये मैं आपको उस दिव्य सरोवर के समीप पहुंचा दूंगा।

 

 

 

 

मिलन हारु दैत्य से बोला – तुम उस दिव्य सरोवर तक पहुंचने के लिए हमारे पथ प्रदर्शक बन जाओ मैं तुम्हारा अनुसरण करता हूँ उस सरोवर के समीप पहुँचने का प्रयास अवश्य करूँगा। हारु दैत्य आकाश मार्ग से उस दिव्य सरोवर के समीप पहुँच गया।

 

 

 

 

मिलन के पास चार प्रकार की शक्तियां थी उनकी सहायता से वह भी हारु के पीछे ही सरोवर के समीप जा पहुंचा। हारु ने मिलन को वह दिव्य सरोवर दिखलाते हुए बोला – अब यहां से उस दिव्य सरोवर तक जाने के लिए तुम्हे ही प्रयास करना होगा।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Chalta Firta Pret Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Chalta Firta Pret Pdf Download की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment