चंद्रकांता उपन्यास Pdf | Chandrakanta Novel Pdf in Hindi

मित्रों इस पोस्ट में Chandrakanta Novel दिया जा रहा है। आप नीचे की लिंक से Download कर सकते हैं और आप यहां से Buddha books in Hindi Download कर सकते हैं।

 

 

Chandrakanta Novel Pdf in Hindi

 

 

चंद्रकांता उन्हें जाते देख रो कर बोली – क्यों तेजसिंह क्या मेरी किस्मत में कुमार की मुलाकात नहीं बदी है? इतना कहते ही गला भर आया और फूट-फूटकर रोने लगी। तेजसिंह ने खूब समझाया और कहा कि देखो, यह सब बखेड़ा इसी वास्ते किया जा रहा है जिससे तुम्हारी उनसे हमेशा के लिए मुलाकात हो। अगर तुम ही घबरा जाओगे तो कैसे काम चलेगा?

 

 

 

 

बहुत अच्छी तरह समझा बुझाकर चंद्रकांता को चुप कराया। तब वहां से रवाना हो केतकी की सूरत में दरवाजे पर आये। देखा तो दो चार प्यादे होश में आये है बाकी चित्त पड़े है, कोई औंधा पड़ा है, कोई उठा तो है मगर फिर झुका ही जाता है। नकली केतकी ने डपटकर दरबानो से कहा – तुम लोग पहरा देते हो या जमीन सूंघते हो? पुस्तक को पूरा पढ़ने के लिए नीचे दी गयी लिंक पर क्लिक करे।

 

 

 

Chandrakanta Novel Pdf in Hindi

 

 

 

पुस्तक का नाम चंद्रकांता उपन्यास 
लेखक देवकीनंदन खत्री
भाषा हिंदी
साइज 1.8 Mb
पेज 212

 

 

 

 

Note- हम कॉपीराइट का पूरा सम्मान करते हैं। इस वेबसाइट Pdf Books Hindi द्वारा दी जा रही बुक्स, नोवेल्स इंटरनेट से ली गयी है। अतः आपसे निवेदन है कि अगर किसी भी बुक्स, नावेल के अधिकार क्षेत्र से या अन्य किसी भी प्रकार की दिक्कत है तो आप हमें [email protected] पर सूचित करें। हम निश्चित ही उस बुक को हटा लेंगे।

 

 

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Chandrakanta Novel आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी पोस्ट के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें और फेसबुक पेज को लाइक भी करें, वहाँ आपको नयी बुक्स, नावेल, कॉमिक्स की जानकारी मिलती रहेगी।

 

 

 

Leave a Comment