Das Bodh Pdf In Hindi / दस बोध Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Das Bodh Pdf In Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Das Bodh Pdf In Hindi Download कर सकते हैं और आप यहां से Upanishad Pdf In Hindi कर सकते हैं।

 

 

 

Das Bodh Pdf In Hindi Download

 

 

पुस्तक का नाम  Das Bodh Pdf
पुस्तक के लेखक  स्वामी रामदास
भाषा  हिन्दी
फॉर्मेट  Pdf 
साइज  26.9 Mb 
पृष्ठ  386 
श्रेणी  धार्मिक 

 

 

 

 

Das Bodh Pdf In Hindi
Das Bodh Pdf In Hindi यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Das Bodh Pdf In Hindi
Krishna Chalisa Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

सुखिया की गाय नियत समय पर एक बछड़े को जन्म दिया। सुखिया बहुत आनंदित था। वह चार दिन के बछड़े को लेकर भविष्य की योजना बनाने लगा। जब बछड़ा दो साल का हो जायेगा तो उसे किसी बैल के साथ जुए में डालकर हल के साथ चलना सिखाऊंगा।

 

 

 

 

फिर उसे बैलगाड़ी में चलने के लिए लगा दूंगा जिससे फसल के साथ ईंट की ढुलाई हो सकेगी और ईंट ढुलाई से आमदनी बढ़ जाएगी। तभी सुखिया की गाय रंभाने लगी उसे बछड़े को दूध पिलाने का समय हो गया था। सुखिया के ख़याली पुलाव बनाने में व्यवधान उत्पन्न हो गया।

 

 

 

 

वह उठकर अपनी गाय के पास जाकर उसके पीठ पर हाथ फेरने लगा। चार दिन का बछड़ा रस्सी से बंधा होने पर भी रस्सी के बंधन से आजाद होकर दूध पीने के लिए अपनी मां के पास जाने के लिए उछल कूद मचा रहा था। सुखिया अपनी मंडई के भीतर से एक छोटी से बाल्टी लेकर आया।

 

 

 

 

उसे गाय के समीप रखते हुए चार दिन के बछड़े की रस्सी खोलने लगा। बछड़ा उछल कूद मचाते हुए सुखिया के संभालने में नहीं आ रहा था। थोड़े से प्रयास के बाद सुखिया ने बछड़े की रस्सी को खोल दिया। बछड़ा बिजली की जैसी तेज गति से अपनी मां के पहुँच गया और दूध पीने लगा।

 

 

 

 

दूध निकलकर बछड़े के मुंह में भर गया। सुखिया समझ गया कि अब गाय अपने से दूध छोड़ रही है। अतः सुखिया ने बछड़े को दूध पीने से अलग करते हुए गाय के पास ही खूंटे से बांधने का प्रयास किया लेकिन बछड़ा फिर एक झटका देते हुए दूध पीने के लिए पहुँच गया।

 

 

 

 

 

इस बार सुखिया ने जोर लगाकर बछड़े को गाय के समीप ही एक खूंटे से बाँध दिया। गाय अपने बच्चे को दुलारते प्यार के साथ जीभ से उसके शरीर के ऊपर कंघी करते हुए उसके बालो को सवांरने लगी। सुखिया दूध निकाल रहा था। बछड़ा बीच-बीच में झटका देकर सुखिया के दूध निकालने के कार्य में व्यवधान उत्पन्न करता था।

 

 

 

 

मानो कह रहा हो कि इस दूध पर मेरा अधिकार है इसे तुम क्यों ले जा रहे हो? गाय बछड़े के शरीर पर अपनी जीभ से कंघी करते हुए उसे समझाने का प्रयास करती और कहती यही तो हमे भोजन और पानी देते है अतः इस दूध पर इनका भी अधिकार बनता है।

 

 

 

 

इस तरह से गाय के समझाने पर बछड़ा शांत हो जाता था। सुखिया ने दूध निकालने के बाद गाय के बछड़े को खूंटे से आजाद कर दिया। बछड़ा दूध पीने के लिए दौड़ पड़ा। उसे दूध पीते हुए ऐसा लग रहा था मानो उसे कुबेर का खजाना मिल गया हो।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Das Bodh Pdf In Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Das Bodh Pdf In Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment