Geet Govind Pdf In Hindi | गीत गोविन्द Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Geet Govind Pdf In Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Geet Govind Pdf In Hindi Download कर सकते हैं और आप यहां से Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Geet Govind Pdf In Hindi 

 

 

 

 

 

 

 

पुस्तक का नाम  Geet Govind Pdf In Hindi
पुस्तक के लेखक  श्री जयदेव 
फॉर्मेट  Pdf 
साइज  5 Mb 
पृष्ठ  239 
भाषा  हिंदी 
श्रेणी  काव्य 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

लोग जहां-तहां श्री रघुनाथ जी के गुण गाते है और बैठकर एक दूसरे को यही सीख देते है कि शरणागत का पालन करने वाले श्री राम जी को भजो। शोभा, शील, रूप और गुणों के धाम श्री रघुनाथ जी को भजो। कमलनयन और सांवले शरीर को भजो। पलक जिस तरह से नयन की रक्षा करते है उसी प्रकार अपने सेवको की रक्षा करने वाले को भजो।

 

 

 

 

काल रूपी भयानक सर्प का भक्षण करने वाले श्री राम रूप गरुण जी को भजो। निष्काम भाव से प्रणाम करते ही ममता का नाश कर देने वाले श्री राम जी को भजो। लोभ-मोह रूपी हरिन के समूह का नाश करने वाले श्री राम रूप किरात को भजो। कामदेव रूपी हाथी के लिए सिंह रूप तथा सेवको को सुख देने वाले श्री राम जी को भजो।

 

 

 

 

संशय और शोक रूपी घने अंधकार का नाश करने वाले श्री राम रूप सूर्य को भजो। राक्षस रूपी घने वन को तप्त करने वाले श्री राम रूप को भजो। जन्म-मृत्यु के भय का नाश करने वाले श्री जानकी जी समेत श्री रघुवीर को क्यों नहीं भजते? बहुत सी वासनाओ रूपी मच्छरों का नाश करने वाले श्री राम रूप हिमराशि को भजो।

 

 

 

 

नित्य एक रस, अजन्मा और अविनाशी श्री रघुनाथ जी को भजो। मुनियो को आनंद देने वाले, पृथ्वी का भार उतारने वाले और तुलसीदास के उदार स्वामी श्री राम जी को भजो। इस प्रकार नगर के स्त्री-पुरुष श्री राम जी का गुणगान करते है और कृपानिधान श्री राम जी सदा सब पर प्रसन्न रहते है।

 

 

 

 

काकभुशुण्डि जी कहते है कि – हे पक्षीराज गरुण जी! जब से राम प्रताप रूपी अत्यंत प्रचंड सूर्य उदित हुआ तब से तीनो लोक में प्रकाश भर गया है। इससे बहुतो को सुख और बहुतो के मन में शोक हुआ है। जिनको शोक हुआ उनका मैं वर्णन करता हूँ। सर्वत्र प्रकाश होने से पहले तो अविद्या रूपी रात्रि नष्ट हो गयी।

 

 

 

 

पाप रूपी उल्लू छिप गए और काम-क्रोध रूपी कुमुद का खिलना बंद हो गया। अनेक प्रकार के बंधन कारक कर्म, गुण, काल और स्वभाव यह सब चकोर है जो राम प्रताप रूपी सूर्य के प्रकाश में कभी सुखी नहीं रहते है। मत्सर, डाह, मान, मोह और मद रूपी जो चोर है उनकी कला भी नहीं चल रही है।

 

 

 

 

कुबेर के खजाने से भी ज्यादा मूल्य मां के दूध का होता है क्योंकि कुबेर का खजाना किसी को जीवन प्रदान नहीं कर सकता है? जबकि मां का दूध किसी भी शिशु के लिए जीवन की प्रारंभिक अवस्था में अमृत के समतुल्य होता है।

 

 

 

गीत गोविन्द Pdf Download

 

 

 

 

Geet Govind Pdf In Hindi
Geet Govind Pdf In Hindi यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Shiv Bhajan Sangrah Pdf

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Geet Govind Pdf In Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Geet Govind Pdf In Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment