संपूर्ण गुप्त नवरात्री Pdf | Gupt Navratri in Hindi Pdf

आज हम इस पोस्ट में Gupt Navratri in Hindi Pdf लेकर आये है आप इसे नीचे दी गयी लिंक से फ्री में Download कर सकते है और आप इसे भी Vat Savitri Vrat Katha Pdf Hindi पढ़ सकते है।

 

 

 

संपूर्ण गुप्त नवरात्री Pdf

 

 

 

 

 

 

 

शारदीय नवरात्रि और वासंतिक नवरात्रि पर्व प्रायः सभी जन मानक के मन के ऊपर अपना प्रभाव स्थापित करता है। शारदीय नवरात्रि तथा वासंतिक नवरात्रि में भगवती के नौ स्वरूपों की उपासना का विधान है पर गुप्त नवरात्रि में भगवती के दस महाविद्या की उपासना किया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार श्रृंगी ऋषि ने अपने एक भक्त को गुप्त नवरात्रि का महत्व बताया था।

 

 

 

प्राचीन मान्यता के अनुसार श्रृंगी ऋषि एक समय अपने भक्तो के मध्य में विराजमान होकर उनका शंका समाधान कर रहे थे। सभी के मध्य एक स्त्री भी श्रृंगी ऋषि के पावन वचन श्रवण कर रही थी। वह स्त्री अपने पति से बहुत व्यथित थी। श्रृंगी ऋषि के समक्ष उपस्थित होकर वह अपनी व्यथा कहने लगी।

 

 

 

श्रृंगी ऋषि उस स्त्री की व्यथा सुनकर बहुत द्रवित हो उठे तथा उन्होंने उस स्त्री से कहा – पुत्री! तुम गुप्त नवरात्रि में माता भगवती की उपासना करो तुम्हारे सभी मनोरथ अवश्य सिद्ध होंगे। वह स्त्री बोली – मुनिवर! मैं माता भगवती की उपासना करना चाहती हूँ परन्तु मेरा पति व्यसनी और तामसी है।

 

 

 

उसके तामसी होने से हमारी उपासना सफल नहीं होती है जबकि मैं पूर्ण समर्पण के साथ भगवती की उपासना में दृढ रहती हूँ। श्रृंगी ऋषि उस स्त्री के भक्ति भाव से बहुत प्रसन्न हुए और बोले – पुत्री! तुम सर्वेश्वरकारिणी देवी की उपासना करो तुम्हारा कल्याण होगा।

 

 

 

सर्वेश्वरकारिणी देवी गुप्त नवरात्रि की अधिष्ठात्री देवी है उनकी उपासना से उनके भक्तो के सभी मनोरथ पूर्ण होते है। इन सर्वेश्वरकारिणी देवी की उपासना गुप्त नवरात्रि में की जाती है जो अपने भक्त को अभयदान के साथ उनकी सभी इच्छाओ को पूर्ण करती है।

 

 

 

श्रृंगी ऋषि बोले – जो व्यक्ति कभी पूजा पाठ नहीं कर सकता है तथा लोभ, काम, व्यसन के वशीभूत है यदि ऐसा व्यक्ति यदि गुप्त नवरात्रि में भगवती की पूजा करता है तो उसे अपने जीवन में अन्य कुछ करने की आवश्यकता नहीं रह जाती है। श्रृंगी ऋषि का वचन मानकर वह स्त्री पूर्ण श्रद्धा के साथ गुप्त नवरात्रि उपासना करने लगी।

 

 

 

माता भगवती उसके ऊपर प्रसन्न हुई तथा उसके जीवन में शनैः-शनैः परिवर्तन होने लगा तथा उसके पति के सभी अनुचित व्यसन छूट गए। गुप्त नवरात्रि में भगवती की पूजा करने से उसके जीवन में सुख और सम्पन्नता का पुनः संचार हो गया।

 

 

 

 

Gupt Navratri Pdf Download

 

 

 

 

Note- इस पोस्ट में दिये किसी भी Pdf Book, Pdf File का इस वेबसाइट के ऑनर से कोई सम्बन्ध नहीं है। अगर इस पोस्ट में दिए गए किसी भी Pdf Book, Pdf File से किसी को भी कोई दिक्कत है तो इस मेल आईडी newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क करें। हम तुरंत ही उस पोस्ट को साइट से हटा देंगे। 

 

 

Gupt Navratri in Hindi Pdf

 

 

पुस्तक का नाम  संपूर्ण गुप्त नवरात्री Pdf
भाषा  हिंदी 
साइज  0.45 Mb 
पृष्ठ  3
श्रेणी  धार्मिक 

 

 

 

Download Here

 

 

 

प्रिय मित्रो यह पोस्ट Gupt Navratri in Hindi Pdf जरूर आपको पसंद आई होगी, तो मित्रों को भी इस वेबसाइट के बारे में जरूर बतायें।

 

 

Leave a Comment