अगर आप Hanuman Jyotish Book Pdf डाउनलोड करना चाहते हैं तो बिल्कुल सही जगह पर आप आये हैं, आप नीचे की लिंक से Hanuman Jyotish Book Pdf डाउनलोड कर सकते हैं और यहां से Divya Prerna Prakash Pdf Hindi कर सकते हैं।

 

 

 

Hanuman Jyotish Book Pdf

 

 

 

 

 

 

 

हनुमज्ज्योतिषम्‌ 0 श्रीरामचन्द्र उवाच

 

 

अन्यच्छास्त्रं विवादाय पदार्थानां विबोधकम्‌ । भविष्यदर्थबोधाय ज्योतिःशास्त्रं वदाधुत्ता ॥ ३॥ श्री रासचन्द्रजीने कहा–हे हनुमान ! दूसरे जितन शास्त्र ह, च सत्र विवाद ( झगडा ) के लिए ओर शाब्दो क अर्थ को त्रत्तानेचाले ह । परन्तु
ज्योतिष शास्त्र संसार की सत्र भविष्य वाताँ का “ज्ञाता है । अतः उसी कों |इ्स समय कहो ।। ३ ॥

 

 

श्रीहनुमानुवाच

 

 

तेषां तद्वचनं श्रृत्वा जगाद हनुमान्वचः । अविष्यदर्थबोघाय श्रृणु तद्रघुनन्दन ।॥ ४॥ भ्रोरामचन्द्रजी का ऐसा वचन सुनकर हनुमानजी ने कहा–ह भरा रघुनाथ अविष्यन ( आगे हानेवाळा ) बाता का ज्ञान जिससे होता है, उसे सुनिए ॥ ४॥ | दशकोष्ठ॒ समालिख्य चक्र नामयुत पुनः । ॥ ॥ आ्यतर्णस्वरो ग्राह्यो भविष्यति सुनिश्चितम्‌ ।। ५॥। चक्र क॑ आकार का दस कोठा बनाव । फिर उसमे नाम लिखे ।

 

 

फिर ईस कोठे क वीच में जो शब्द लिखा हे, उसके पाहिल अक्षर से भविष्यत्‌ फल निश्चय करना चाहिए ।। ५ ||

 

 

 

गमनागमनञ्चेव कृषिर्व्यापार एव च। गङ्गाप्राप्तिइच रोगो हि मृत्युङ्चिन्ता तथेव च ॥ ६॥ सेवासाहित्यवासाइच मन्त्रचिन्ता धनस्य च। : मनस्कामस्तथा रोगो घनोत्पत्तिकरस्तथा ।। ७।।) वादो विवाद: सङ्गश्च युद्ध मिलतमेव च। याञ्चा प्राप्तिश्च विश्वासः स्थानं नष्टनिधिस्तथा ।। ८ ।॥ ग्राहको भीतिगभौ च चिन्ता बन्धनमंव-च । विश्वासविद्याद्यताइच सम्बन्धो राज्यमंव च ।। ९ || संतानसञ्चयोद्वाहा विक्रयः प्रणयस्तथा । कुशलं च क्रमेणेषां चक्राण्यक्तानि नामभिः ।॥ १०॥ चक्रकोष्ठेऽङगुलिः स्थाप्या कुर्यादत्र परीक्षणम्‌ ॥११।’ चक्र समुदाय लिखते हैं–विदेश जाना, परदेश से लौटना, खेती, रोजगार, गंगा की प्राप्ति, रोगों से मृत्यु की चिन्ता, सेवा ( नोकरी )१ सहायता, वास, मन्त्र की चिन्ता, घन की चिन्ता, मनोरथ, राग, वन का उपाजेन, वाद-विवाद ( गाख्राथ ), साथ, युद्ध, मुलाकात, माँगना! प्राप्ति, विश्वास, स्थान, नष्ट हुआ धन, ग्राहक, भय, गर्भ कां चिन्ता? वन्न (जेल), विद्या, द्यत, प्रेम, कुशल इत्यादि । इन सवाँ में जिसकी परीक्षा करनी हो, प्रत्येक पत्र के ऊपर जो नाम लिखा है उस नाम अनुसार चक्र-कोछ में अंगुली रखकर कोष्ठ के अङ्क क॑ अनुसार फल समझना || ६-११ ॥

 

 

 

हनुमान ज्योतिष पुस्तक Pdf Download

 

 

 

 

 

 

पुस्तक का नाम हनुमान ज्योतिष पुस्तक
पुस्तक के लेखक
पेज 82
साइज 12.2 MB
भाषा हिंदी

 

 

 

 

इस आर्टिकल में दिये गए किसी भी Pdf Book या Pdf File का इस वेबसाइट के ऑनर का अधिकार नहीं है। यह पाठको के सुविधा के लिये दी गयी है। अगर किसी को भी इस आर्टिकल के पीडीएफ फ़ाइल से कोई आपत्ति है तो इस मेल आईडी newsbyabhi247@gmail.com पर मेल करें।

 

 

 

 

 

 

यह पोस्ट Hanuman Jyotish Book Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *