Jeet Aapki Book Pdf / जीत आपकी बुक Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Jeet Aapki Book Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Jeet Aapki Book Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Saket Mahakavya Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Jeet Aapki Book Pdf Download

 

 

पुस्तक का नाम Jeet Aapki Book Pdf
पुस्तक के लेखक शिव खेरा 
फॉर्मेट  Pdf 
भाषा  हिंदी 
साइज  116 Mb 
पृष्ठ  359 
श्रेणी  प्रेरणादायक 

 

 

 

Jeet Aapki Book Pdf
Jeet Aapki Book Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Jeet Aapki Book Pdf
Gaban Upanyas Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

माता को सुख देने वाले बाल विनोद करते हुए श्री रघुनाथ जी आंगन में विचर रहे है। मरकत मणि के समान हरिताभ श्याम और कोमल शरीर है। प्रत्येक अंगो में बहुत से कामदेवों की शोभा है। नवीन कमल के समान कोमल चरण है। सुंदर अंगुलियां है और नख की ज्योति से चन्द्रमा की कांति मलिन हो रही है।

 

 

 

 

तलवे में अंकुश, ध्वजा और कमल के सुंदर चिन्ह है। चरणों में मधुर शब्द करने वाले सुंदर नूपुर है मणियों और रत्नो से जड़ी हुई स्वर्ण करधनी का शब्द सुहावना लग रहा है। उदर पर सुंदर त्रिवली है, नाभि सुंदर और गहरी है। विशाल वक्षःस्थल पर अनेक प्रकार के बाल वस्त्र और आभूषण सुशोभित है।

 

 

 

 

कोमल हथेलियां, नख और अंगुलियां मन को हरने वाले है और विशाल भुजाओ पर सुंदर आभूषण है, बालसिंह के जैसे कंधे और शंख के समान तीन रेखाओ से युक्त गला है। सुंदर ठुड्डी है और मुख तो छवि की सीमा ही है। कल बल तोतले वचन है मनोहर मुलायम ओठ है।

 

 

 

 

उज्वल सुंदर और छोटी-छोटी ऊपर और नीचे दो-दो दन्तुलियाँ है। सुंदर गाल, मनोहर नासिका और सब सुख को देने वाली चन्द्रमा की किरणों के समान मुस्कान है। नीले कमल के समान नयन, जन्म-मृत्यु के बंधन से छुड़ाने वाले है। ललाट पर गोरोचन का तिलक सुशोभित है।

 

 

 

 

भौहे टेढ़ी है, कान सम और सुंदर है। काले और घुंघराले केश की छवि उत्तम है। पीली और महीन झंगुली शरीर पर शोभा दे रही है। उनकी किलकारी और चितवन मुझे बहुत ही प्रिय लगती है। राजा दशरथ जी के आंगन में विहार करने वाले रूप की राशि श्री राम जी अपनी परछाई देखकर नाचते है।

 

 

 

 

और मुझसे बहुत प्रकार के खेल करते है। किलकारी मारते हुए जब वह मुझे पकड़ने दौड़ते है मैं भाग जाता हूँ। तब मुझे खाने का सामान पुआ दिखलाते है। पुल बांधकर जिस प्रकार वानरों की सेना समुद्र के पार उतरी और जिस प्रकार से वीर श्रेष्ठ बालि पुत्र अंगद दूत बनकर गए वह सब कहा फिर राक्षसों और वानरों के युद्ध का अनेक प्रकार से वर्णन किया फिर कुम्भकर्ण, मेघनाद के बल, पुरुषार्थ और संहार की कथा कही।

 

 

 

 

नाना प्रकार के राक्षस समूहों का अंत तथा श्री रघुनाथ जी और रावण के अनेक प्रकार के युद्ध का वर्णन किया। रावण का अंत, मंदोदरी का शोक, विभीषण का राज्याभिषेक और देवताओ का शोक रहित होना कहकर फिर सीता जी और रघुनाथ जी का मिलाप कहा।

 

 

 

 

जिस प्रकार देवताओ ने हाथ जोड़कर स्तुति किया और फिर जैसे वानरों समेत पुष्पक विमान पर चढ़कर कृपाधाम प्रभु अवधपुरी को चले वह कहा फिर जिस प्रकार अपने नगर अयोध्या में आये वह सब उज्वल चरित्र काकभुशुण्डि जी ने विस्तार पूर्वक वर्णन किए फिर उन्होंने श्री राम जी का राज्याभिषेक कहा।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Jeet Aapki Book Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Jeet Aapki Book Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment