Jyotish Upay Pdf / ज्योतिष उपाय Pdf Download

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Jyotish Upay Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Jyotish Upay Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से लग्न जातक Pdf Download कर सकते हैं और  चरक संहिता Pdf Download कर सकते हैं।

 

 

 

Jyotish Upay Pdf / ज्योतिष उपाय पीडीएफ

 

 

Jyotish Upay Pdf
ज्योतिष उपाय पीडीऍफ़ डाउनलोड 

 

 

 

प्रश्न ज्योतिष Pdf Download

 

ज्योतिष कौमुदी Pdf Download

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

श्री राम जी के वचन सुनकर वानर राज सुग्रीव ने बहुत से दूत भेजे जो श्रेष्ठ मुनियो को बुलाकर ले आये। शिवलिंग की स्थापना करके उसका विधि पूर्वक पूजन किया। फिर भगवान बोले – शिव जी के समान मुझे दूसरा कोई प्रिय नहीं है।

 

 

 

 

जो शिव से द्रोह रखता है और मेरा भक्त कहलाता है वह मनुष्य स्वप्न में भी मुझे नहीं प्राप्त कर सकता है। शंकर जी से विमुख होकर और विरोध करके जो मेरी भक्ति चाहता है। वह नरकगामी मुर्ख और अलप बुद्धि है।

 

 

 

 

2- दोहा का अर्थ-

 

 

 

जिसको शंकर जी प्रिय है और जो मेरा द्रोही है, एवं जो शिव जी के द्रोही है और मेरे दास बनना चाहते है वह मनुष्य कल्प भर घोर नरक में निवास करते है।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

जो मनुष्य मेरे द्वारा स्थापित किए हुए इन रामेश्वर जी के दर्शन करेंगे वह शरीर त्याग करने पर मेरे लोक को जायेंगे और गंगाजल लाकर इनपर चढावेगा वह मनुष्य सायुज्य मुक्ति प्राप्त करेगा।

 

 

 

जो छल त्यागकर और निष्काम होकर श्री रामेश्वर जी की सेवा करेंगे उन्हें शंकर जी मेरी भक्ति प्रदान करेंगे और मेरे बनाये हुए सेतु का दर्शन करेगा वह बिना परिश्रम ही संसार सागर से पार हो जायेगा।

 

 

 

श्री राम जी के वचन सबके मन को अच्छे लगे। तदनन्तर वह श्रेष्ठ मुनि अपने आश्रमों को लौट आये। शिव जी कहते है कि हे पार्वती! श्री रघुनाथ जी की यह रीति है कि वह शरणागत पर सदा ही प्रीति करते है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Jyotish Upay Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment