Kamal Netra Stotra Pdf / कमल नेत्र स्तोत्र Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Kamal Netra Stotra Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Kamal Netra Stotra Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Durga Kavach Pdf Hindi कर सकते हैं।

 

 

 

Kamal Netra Stotra Pdf Download

 

 

पुस्तक का नाम Kamal Netra Stotra Pdf
पुस्तक के लेखक
साइज 18.2 Mb
फॉर्मेट Pdf
भाषा हिंदी
पृष्ठ 36
श्रेणी

 

 

 

Kamal Netra Stotra Pdf
Kamal Netra Stotra Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Kamal Netra Stotra Pdf
Ravan Samhita Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

जो ज्ञानियों में और भक्तो में शिरोमणि है एवं त्रिभुवन पति भगवान के वाहन है उन गरुण को भी माया ने मोह लिया। फिर भी नीच मनुष्य मूर्खता वश घमंड किया करते है। यह माया जब शिव जी और ब्रह्मा जी को भी मोह लेती है तब दूसरा बेचारा क्या चीज है? जी में ऐसा समझकर ही मुनि लोग उस माया के स्वामी भगवान का भजन करते है।

 

 

 

 

गरुण जी वहां गए जहां निर्वाध बुद्धि और पूर्ण भक्ति वाले काकभुशुण्डि जी रहते थे। उस पर्वत को देखकर उनका मन प्रसन्न हो गया और उसके दर्शन से ही सब माया, मोह, सोच जाता रहा। तालाब में सना और जलपान करके वह प्रसन्न चित्त से वट वृक्ष के नीचे गए।

 

 

 

 

वहां श्री राम जी के चरित्र सुनने के लिए बूढ़े-बूढ़े पक्षी आये हुए थे। भुशुण्डि जी कथा आरंभ करना ही चाहते थे कि उसी समय पक्षीराज गरुण जी वहां जा पहुंचे। पक्षियों के राजा गरुण जी को आते देखकर काकभुशुण्डि जी सहित सारा पक्षी समाज हर्षित हो गया।

 

 

 

 

उन्होंने पक्षीराज गरुण जी का बहुत ही आदर सत्कार किया और कुशल पूछकर बैठने के लिए सुंदर आसन दिया। फिर प्रेम सहित पूजा करके काकभुशुण्डि जी मधुर वचन बोले। हे नाथ! हे पक्षीराज! आपके दर्शन से मैं कृतार्थ हो गया। आप जो आज्ञा दे मैं अब वही करूँ। हे प्रभो! आप किस कार्य के लिए आये है? पक्षीराज गरुण जी ने कोमल वचन कहे – आप तो सदा ही कृतार्थ रूप है जिनकी बड़ाई स्वयं महादेव जी ने अपने श्री मुख से की है।

 

 

 

 

हे तात! सुनिए, मैं जिस कार्य से यहां आया था वह सब कार्य तो यहां आते ही पूरा हो गया। फिर आपके दर्शन से भी प्राप्त हो गए। आपका परम पवित्र आश्रम देखकर ही मेरा मोह, संदेह और अनेक प्रकार के सब भ्रम जाते रहे। अब हे तात! आप मुझे श्री राम जी की अत्यंत परम पवित्र करने वाली सदा सुख देने वाली और दुःख समूह का नाश करने वाली कथा आदर सहित सुनाइए।

 

 

 

 

हे प्रभो! मैं आपसे बार-बार यही विनती करता हूँ। गरुण जी का विनम्र, सरल, सुंदर, प्रेम युक्त, सुखप्रद और अत्यंत पवित्र वाणी सुनते ही काकभुशुण्डि जी के मन में परम उत्साह हुआ और वह श्री रघुनाथ जी के गुणों की कथा कहने लगे। हे भवानी! पहले तो उन्होंने बड़े ही प्रेम से रामचरित मानस सरोवर का रूपक का समझाकर कहा।

 

 

 

 

फिर नारद जी का अपार मोह और फिर रावण का अवतार कहा। फिर प्रभु के अवतार की कथा का वर्णन किया। तदनन्तर मन लगाकर श्री राम जी की बाल लीलाये कही। मन में परम उत्साह भरकर अनेक प्रकार की बाल लीलाये कहकर फिर ऋषि विश्वामित्र जी का अयोध्या आना और श्री रघुवीर जी का विवाह वर्णन किया।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Kamal Netra Stotra Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Kamal Netra Stotra Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment