काशी का अस्सी | Kashi Ka Assi in Hindi Pdf

काशी का अस्सी काशीनाथ सिंह का बेहद प्रसिद्ध उपन्यास है। आप Kashi Ka Assi in Hindi Pdf नीचे की लिंक से फ्री डाउनलोड कर सकते हैं और यहां से शैतान उपन्यास Pdf Download कर सकते हैं।

 

 

 

Kashi Ka Assi in Hindi Pdf

 

 

 

 

 

 

 

काशी का अस्सी

 

 

काशी नाथ सिंह हिंदी साहित्य के एक जाने -माने कवि व् उपन्यासकार हैं  ,इनका जन्म कविओं और लेखकों की धरती उत्तर प्रदेश में हुआ था। उत्तर प्रदेश के चंदौली जनपद के जियन पुर गांव में एक किसान नागर सिंह के घर काशी नाथ का जन्म १ जनवरी १९३७ को हआ था ,इनके पिता प्राथमिक विद्यालय में अध्यापक थे।

 

 

 

अघ्यापन के साथ ही इनके पिता अपना पैतृक कार्य कृषि भी करते थे। इनकी प्रारम्भिक शिक्षा इनके गांव में ही प्राप्त हुई थी। इनका हिंदी साहित्य से बहुत लगाव था ,इसलिए ही इनकी लेखनी कला उत्तरोत्तर प्रगति करती गई। इन्होने स्नातक ,परास्नातक के साथ ही पी एच.डी. की उपाधि ( काशी हिन्दू विश्व विद्यालय ) से प्राप्त किया था।

 

 

 

काशी नाथ सिंह को अपने विद्यर्थी जीवन में ही जिंदगी की सच्चाईयो से सामना करना पड़ा था फिर उनके श्री मुख से निकल पड़ा -अपने दुखों के बदले दूसरे के दुःख को देखो तब आपको लगेगा कि दूसरों के दुःख के सामने आपका दुःख कुछ भी नहीं है।

 

 

 

काशी हिन्दू विश्व विद्यालय में शोध के दौरान इनके गुरु आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी थे जो किन्ही कारणों से निकाल दिए गए। बहुत प्रयास करने के बाद भी कोई अध्यापक इनके शोध को अपने निर्देशन में पूर्ण कराने का साहस नहीं जुटा पाया ,तब उन्हों ने उस समय के कम लोकप्रिय अध्यापक करुणा पति त्रिपाठी के निर्देशन में अपने शोध को पूर्ण किया था।

 

 

 

काशी का अस्सी Pdf Download

 

 

 

पुस्तक का नाम काशी का अस्सी
भाषा हिंदी
साइज —-
पृष्ठ 215
श्रेणी बुक
फॉर्मेट Pdf

 

 

 

 Kashi Ka Assi in Hindi Pdf

 

 

 

 

 

 

Note- इस पोस्ट में दिये किसी भी Pdf Book और Pdf File का इस वेबसाइट के ऑनर से कोई सम्बन्ध नहीं है। अगर इस पोस्ट में दिए गए किसी भी Pdf Book और Pdf File से किसी को भी कोई परेशानी है तो इस मेल आईडी [email protected] पर संपर्क करें। तुरंत ही उस पोस्ट को साइट से हटा दिया जायेगा।

 

 

 

यह पोस्ट Kashi Ka Assi in Hindi Pdf आपको जरूर पसंद आयी होगी तो इसे अपने मित्रों को भी शेयर करें।

 

 

 

Leave a Comment