Mantra Sagar Pdf / मंत्र सागर Pdf Download

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Mantra Sagar Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Mantra Sagar Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से 5 + रहस्यमयी प्राचीन तंत्र विद्या Pdf भी डाउनलोड कर सकते हैं।

 

 

 

Mantra Sagar Pdf / मंत्र सागर पीडीएफ

 

 

 

पुस्तक का नाम  मंत्र सागर 
पुस्तक के लेखक  रामेश्वर प्रसाद त्रिपाठी 
साइज  121.6 MB
पेज  356
श्रेणी  ज्योतिष 

 

 


मंत्र सागर पीडीऍफ़ डाउनलोड 

 

 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

परन्तु आपके शत्रुओ की स्त्रियों के आसुओ की धारा से यह फिर भर गया और उसी यह खारा भी हो गया। हनुमान जी की यह अलंकार पूर्ण युक्ति सुनकर वानर श्री रघुनाथ जी की ओर देखकर हर्षित हो गए।

 

 

 

जांबवंत ने नल-नील दोनों भाइयो को बुलाकर सारी कथा कह सुनाई और कहा – मन में श्री राम जी के प्रताप को स्मरण करके सेतु तैयार करो राम के प्रताप से कुछ भी परिश्रम नहीं होगा।

 

 

 

फिर वानर के समूहों को बुला लिया और कहा – आप सब लोग मेरी कुछ विनती सुन लीजिए। अपने हृदय में श्री राम जी के चरण कलम धारण करके सब भालू और वानर एक खेल कीजिए।

 

 

 

 

विकट वानरों के समूह आप लोग दौड़कर वृक्ष और पर्वतो के समूह को उखाड़ लाइए। यह सुनकर वानर और भालू हुंकार करके और रघुनाथ जी के प्रताप की जय कहते हुए चले।

 

 

 

 

1- दोहा का अर्थ-

 

 

 

बहुत ऊँचे-ऊँचे पर्वतो और वृक्षों को खेल की तरह ही उखाड़कर उठा लेते है ले आकर नल और नील को देते है। वह अच्छी तरह गढ़कर सुंदर सेतु बनाते है।

 

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

वानर बड़े-बड़े पहाड़ लाकर देते है और नल नील उन्हें गेंद की तरह ले लेते है। सेतु की अत्यंत सुंदर रचना देखकर कृपा सिंधु श्री राम जी हंसकर वचन बोले।

 

 

 

यहां की यह भूमि परम रमणीय और उत्तम है। इसकी असीम महिमा का वर्णन नहीं किया जा सकता है। मैं यहां शिव जी की स्थापना करूँगा। मेरे हृदय में यह महान संकल्प है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Mantra Sagar Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment