Mayavi Shabar Mantra Pdf / मायावी शाबर मंत्र PDF

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Mayavi Shabar Mantra Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Mayavi Shabar Mantra Pdf Download कर सकते हैं और यहां से Shabar Mantra Sagar Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Mayavi Shabar Mantra Pdf Download

 

 

 

Mayavi Shabar Mantra Pdf
Bavan Janjira Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

इस विल्व की जड़ के परम उत्तम जल से भरा हुआ देखकर महादेव जी पूर्णतया संतुष्ट होते है। जो मनुष्य पुष्प, गंध आदि से विल्व के मूल भाग का पूजन करता है वह शिव लोक को पाता है और इस लोक में भी उसकी सुख संतति बढ़ती है। जो विल्व की जड़ के निकट आदरपूर्वक दीपावली जलाकर रखता है।

 

 

 

 

वह तत्वज्ञान से सम्पन्न हो भगवान महेश्वर में मिल जाता है। जो विल्व की शाखा थामकर हाथ से उसके नए-नए पल्लव उतारता और उनसे उस विल्व की पूजा करता है वह सब पापो से मुक्त हो जाता है। जो विल्व के जड़ के नजदीक भगवान शंकर में अनुराग रखने वाले एक भक्त को भी भक्ति पूर्वक भोजन कराता है उसे कोटिगुना पुण्य प्राप्त होता है।

 

 

 

जो विल्व की जड़ के पास शिव भक्त को खीर और घृत से युक्त अन्न देता है वह कभी दरिद्र नहीं होता। ब्राह्मणो! इस प्रकार मैंने सांगोपांग शिव लिंग पूजन का वर्णन किया। यह प्रवृत्तिमार्गी तथा निवृत्तिमार्गी पूजको के भेद से दो प्रकार का होता है।

 

 

 

 

प्रवृत्तिमार्गी लोगो के लिए पीठ पूजा इस धरती पर सम्पूर्ण अभीष्ट वस्तुओ को देने वाली होती है। प्रवृत्ति पुरुष सुपात्र गुरु आदि के द्वारा ही सारी पूजा सम्पन्न करे और अभिषेक के अंत में अगहनी के चावल से बना हुआ नैवेद्य निवेदन करे। पूजा के अंत में शिव लिंग को शुद्ध सम्पुट में विराजमान करके घर के अंदर कही अलग रख दे।

 

 

 

 

निवृत्तिमार्गी उपासको के लिए हाथ पर ही शिव पूजन का विधान है। उन्हें भिक्षा आदि से प्राप्त हुए अपने भोजन को ही नैवेद्य रूप में निवेदित कर देना चाहिए। निवृत्त पुरुषो के लिए सूक्ष्म लिंग ही श्रेष्ठ बताया जाता है। वे विभूति से पूजन करे और विभूति को ही नैवेद्य रूप से निवेदित भी करे। पूजा करके उस लिंग को हमेशा अपने मस्तक पर धारण करे।

 

 

 

 

ऋषि बोले – महाभाग व्यासशिष्य सूत जी! आपको नमस्कार है। अब आप उस परम उत्तम भस्म माहात्म्य का ही वर्णन कीजिए। भस्म माहात्म्य, रुद्राक्ष माहात्म्य तथा उत्तम नाम माहात्म्य इन तीनो को परम प्रसन्नतापूर्वक प्रतिपादन कीजिए और हमारे हृदय को आनंद दीजिए।

 

 

 

 

सूत जी ने कहा – महर्षियो! आपने बहुत उत्तम बात पूछी है। वह समस्त लोको के लिए हितकारी विषय है। जो लोग भगवान शंकर की उपासना करते है वे धन्य है, कृतार्थ है उनका देह धारण सफल है। तथा उनके समस्त कुल का उद्धार हो गया।

 

 

 

 

जिनके मुख में भगवान शिव का नाम है जो अपने मुख से सदाशिव और इत्यादि नामो का उच्चारण करते रहते है जैसे खदिर वृक्ष के अंगार को छूने का साहस कोई भी प्राणी नहीं कर सकते। हे श्रीशिव! आपको नमस्कार है। ऐसी बात जब मुँह से निकलती है तब वह समस्त पापो का विनाश करने वाला पावन तीर्थ बन जाता है।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Mayavi Shabar Mantra Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Mayavi Shabar Mantra Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment