मृत्युंजय बुक | Mrityunjay book Pdf free download in Hindi

अगर आप Mrityunjay book Pdf free download in Hindi डाउनलोड करना चाहते हैं तो बिल्कुल सही जगह पर आप आये हैं, आप नीचे की लिंक से Mrityunjay book Pdf free download in Hindi डाउनलोड कर सकते हैं और यहां से Vardha hindi shabdkosh pdf Download कर सकते हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

Mrityunjay book Pdf

 

 

 

Mrityunjay book Pdf free download in Hindi

 

 

 

इस पुस्तक के बारे में——

 

 

 

 

रविन्द्रनाथ ठाकुर से जो गांधी का पत्र व्यवहार हुआ था। पश्चिमी साहित्य के विषय में जो कुछ सूत्र ‘यंग इंडिया’ में मिले उन्ही दिनों पढ़ गया था। गांधी रामायण की ऐतिहासिकता न मानकर उसे कवि कर्म कहते थे। कहने का अर्थ है कि मर्यादा पुरुषोत्तम के चरित का कमल जो आदिकवि के भाव लोक में खिला उसी के रस और गंध का भोग रामायण बना।

 

 

 

 

जिसमे भारतीय प्रजा के अभाव मिटते रहे है। आदिकवि के भाव लोक में अवतरित होकर श्रीरामचन्द्र लोक के राम बने और गांधी के ‘हे राम’ जो उनके कंठ से अंत समय निकले थे। इस नाटक के आरंभ के साथ गांधी और इससे संबंधित अन्य सभी पात्रो का आविर्भाव मेरे भाव लोक में हुआ है।

 

 

 

 

कवि कर्म की यही पद्धति है। गांधी और अन्य पात्रो के व्यवहार संवाद इस रचना में सीधे उन्ही से मिले है। इस कथन का विचारक संदेह कर सकते है इन पात्रो ने अब क्या कहा? उपलब्ध सामाग्री में इसकी जांच भी कर सकते है। मेरे लिए यह सब अडिग विश्वास बन गया है।

 

 

 

 

बिना जिसके यह रचना मेरे माध्यम से संभव न होती। जीवित व्यक्तियों को चरित बनाना संस्कृत नाटक पद्धति में वर्जित रहा है। इस नाटक में इस नियम का निर्वाह किया गया है। गांधी के कर्मलोक के जो जन दिवंगत हो चुके है वे ही इस नाटक के पात्र बने है। इस पुस्तक को पूरा पढ़ने के नीचे दी गयी लिंक पर क्लिक करे।

 

 

 

 

Mrityunjay book pdf free download

 

 

 

 

इस आर्टिकल में दिये गए किसी भी Pdf Book या Pdf File का इस वेबसाइट के ऑनर का अधिकार नहीं है। यह पाठको के सुविधा के लिये दी गयी है। अगर किसी को भी इस आर्टिकल के पीडीएफ फ़ाइल से कोई आपत्ति है तो इस मेल आईडी [email protected] पर मेल करें।

 

 

 

 

Mrityunjay book Pdf free download in Hindi

 

 

 

 

यह पोस्ट Mrityunjay book Pdf free download in Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

 

Leave a Comment