5 + Mystery novels in Hindi Pdf / सबसे बड़ी मिस्ट्री उपन्यास Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको 5 + Mystery novels in Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से 5 + Mystery novels in Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Anil Mohan Novel Hindi Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

5 + Mystery novels in Hindi Pdf Download

 

 

 

5 + Mystery novels in Hindi Pdf
उपन्यास यहां से डाउनलोड करें।

 

 

 

5 + Mystery novels in Hindi Pdf
Crime investigation book in Hindi Pdf Download

 

 

 

5 + Mystery novels in Hindi Pdf
बॉण्ड की गुमनाम रातें Novel Pdf Download

 

 

 

5 + Mystery novels in Hindi Pdf
कुएं का राज उपन्यास Pdf Download

 

 

 

5 + Mystery novels in Hindi Pdf
उपन्यास Free Download

 

 

 

5 + Mystery novels in Hindi Pdf
चीख उठा हिमालय उपन्यास Pdf Download

 

 

 

Gulshan Nanda Novels In Hindi Pdf
काली घाटी नॉवेल Pdf By गुलशन नंदा यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

हरी प्रजापति कजरी से बोले – तुम्हारा कहना एकदम उचित है। मैंने कई बार समझाने का प्रयास किया लेकिन वह हमारी बातो को अनसुना करते हुए आवारा लड़को के साथ खेलने के लिए निकल जाता है। फिर भी तुम्हारे कहने से मैं एक बार उसे समझाने का प्रयास अवश्य करूँगा।

 

 

 

 

एक दिन हरी प्रजापति बर्तन बना रहे थे। उनका चाक जिसपर वह मिट्टी को बर्तन का आकार प्रदान करते थे वह बहुत तेज गति से गोलाई में घूम रहा था। उसी समय वहां राम मिलन आ गया और गोलाई में घूमते हुए चाक और उसकी गति को देखते हुए बोला – पिता जी! यह चाक बहुत ही तेज गति से दौड़ रहा है।

 

 

 

 

हरी प्रजापति बोले – तुम इस चाक से भी तीव्र दौड़ते हुए खेलने के लिए आवारा लड़को के पास भाग जाते हो लेकिन इस चाक में और तुममे बहुत फर्क है। सजीव होते हुए भी तुम्हे दूसरे के सहारे की जरूरत होती है जबकि यह निर्जीव होते हुए भी हम लोगो का सहारा बना हुआ है।

 

 

 

 

राम मिलन के लिए उसके पिता के द्वारा कही गयी यह बात उसके हृदय में लग गयी। वह चाक को गौर से निहारते हुए वहां से चला गया और उसके मन में एक साथ कई विचार का प्रवाह चलने लगा। वह गौर करने लगा – कि इन आवारा बालको के साथ खेलकर मुझे क्या मिलता है?

 

 

 

 

क्या इनके साथ खेलकर मैं अपना पेट भर सकता हूँ? पिता जी ने सही कहा था कि मैं सजीव होकर भी उनका सहारा नहीं बन सका जबकि वह चाक निर्जीव होते हुए भी हम लोगो की आजीविका का सहारा बना हुआ है। राम मिलन को ऐसा आभास हुआ जैसे उसे कोई कह रहा है कि तुम आवारा हो कुछ नहीं कर सकते हो।

 

 

 

 

राम मिलन बोला – मैं तुम्हे अपने कार्य में सफल होकर अवश्य ही दिखाऊंगा। तभी जैसे कही से आवाज आयी ‘आवारा कही के’ तुमसे कुछ नहीं हो सकता है। राम मिलन उस अदृश्य आवाज के साथ बात करते हुए कहता जा रहा था देखना तुम्हे मैं अच्छी तरह से मिटटी के सभी बर्तन बनाकर दिखाऊंगा।

 

 

 

 

वह अदृश्य आवाज बोली – अगर तुम मिट्टी का एक बेढंग मटका भी बना दोगे तो राम मिलन बोला – अगर मैंने मिट्टी का एक मटका बना दिया तो क्या करोगी? राम मिलन ने आवाज को गौर से सुना वह आवाज किसी औरत की मालूम हो रही थी।

 

 

 

 

वह अदृश्य आवाज बोली – तब मैं तुम्हारी गुलाम और तुम हमारे मालिक बन जाओगे। इतना कहते हुए सहसा किसी ने उसके शरीर पर स्पर्श किया लेकिन देखने पर वहां कोई नहीं था। राम मिलन बोला – तुम कोई भी हो मैं तुम्हारी चुनौती को स्वीकार करता हूँ।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट 5 + Mystery novels in Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और 5 + Mystery novels in Hindi Pdf Download की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment