नवग्रह स्तोत्र Pdf | Navagraha Stotra pdf

इस पोस्ट में आपको Navagraha Stotra मिल जाएगी, आप नीचे की लिंक से इसे डाउनलोड कर सकते हैं और यहां से Shivashtak in Hindi pdf डाउनलोड कर सकते हैं।

 

 

 

 

Navagraha Stotra Download

 

 

 

Navagraha Stotra pdf

 

 

 

 

जपाकुसुम संकाशं काश्यपेयं महदद्युति ।
तमोरिंसर्व पापघ्नं प्रणतोस्मि दिवाकर ।। 1 ।। 

 

 

दधिशंख तुषाराभं क्षीरोदार्णव संभवं ।
नमामि शशिनं सोमं शंभोर्मुकुट भूषण ।। 2 ।।

 

 

धरणीगर्भ संभूतं विद्युत्कांतीं समप्रभ ।
कुमारं शक्तिहस्तं मंगलं प्रणमाम्यहं ।। 3 ।। 

 

 

प्रियंगुकलिका श्यामं रुपेणा प्रतिमं बुध ।
सौम्यं सौम्य गुणपेतं तं बुधं प्रणमाम्यह ।। 4 ।। 

 

 

देवानांच ऋषीनांच गुरुंकांचन सन्निभ ।
बुद्धिभूतं त्रिलोकेशं तं नमामि बृहस्पति ।। 5 ।। 

 

 

हिमकुंद मृणालाभं दैत्यानां परमं गुरु ।
सर्वशास्त्र प्रवक्तारं भार्गवं प्रणमाम्यह ।। 6 ।।

 

 

नीलांजन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रज ।
छायामार्तंड संभूतं तं नमामि शनैश्चर ।। 7 ।। 

 

 

अर्धकायं महावीर्यं चंद्रादित्य विमर्दन ।
सिंहिका गर्भसंभूतं तं राहुं प्रणमाम्यह ।। 8 ।।

 

 

पलाशपुष्प संकाशं तारका ग्रह मस्तक ।
रौद्रं रौद्रात्मकं घोरं तं केतुं प्रणमाम्यह ।। 9 ।।

 

 

 

Download

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें।

 

 

Leave a Comment