Navgrah Mantra In Hindi Pdf | नवग्रह मंत्र Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Navgrah Mantra In Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Navgrah Mantra In Hindi Pdf Download कर सकते हैं और यहां से Shiksha Manovigyan P. d. Pathak Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Navgrah Mantra In Hindi Pdf 

 

 

 

 

 

 

 

नव ग्रह के मंत्र का जाप करने से ग्रह की शांति और ग्रह दोष का समन होता है। वैदिक शास्त्र  में नवग्रह का उल्लेख हुआ है। जिनमे (सूर्य ग्रह ,चद्र ग्रह,मंगल ग्रह,बुध ग्रह ,वृहस्पति ग्रह या गुरु ग्रह ,शुक्र ग्रह ,शनि ग्रह राहु ग्रह ,और केतु ग्रह )का उल्लेख होता है। इन सभी ग्रहों की अपनी भिन्न -भिन्न प्रकृति है जिससे मनुष्य का जीवन प्रभावित होता है।

 

 

 

 

वैदिक शास्त्र में राहु और केतु को छाया  ग्रह कहा जाता है। ग्रह दोष के निवारण के लिए व्यक्ति की कुंडली का अवलोकन करने के बाद ग्रह दोष की शांति के लिए संबन्धित ग्रह का बीज मंत्र जाप किसी विद्वान् व्राह्मण से विधि पूर्वक सम्पन्न करवाना चाहिए या वैदिक ,तांत्रिक मंत्र का जाप योग्य विद्वान् से अवश्य करवाना चाहिए।

 

 

नव ग्रह मंत्र का प्रकार –

 

 

वेद में ग्रहों से संबंध रखने वाले जो मंत्र बताये गए हैं उस मंत्र को वैदिक मंत्र के नाम से सम्वोधित किया जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार तीन प्रकार के नवग्रह मंत्र का वर्णन मिलता हैजिन्हे वैदिक मंत्र ,तांत्रिक मंत्र ,वीज मंत्र के नाम से सम्बोधित किया जाता है।

 

 

 

 

मनुष्य के जीवन में ग्रहों की स्थिति को बलवान बनाने के लिए और ग्रहों से शुभ फल की प्राप्ति के लिए नवग्रह मंत्र का जाप एक सशक्त माध्यम है जिससे शुभ और अनुकूल फल की प्राप्ति होती है।

 

 

 

वीज मंत्र को ,मंत्र का प्राण स्वरूप कहा जाता है। तंत्र विद्या में जिस मंत्र का प्रयोग करते हैं उसे तांत्रिक मंत्र की संज्ञा मिली है। किसी भी मंत्र की शक्ति उसके मूल स्वरूप -वीज-में अदृश्य रूप से रहती है ,इसलिए उसे वीज मंत्र के नाम जाना जाता है।

 

 

 

सूर्य ग्रह से सम्बन्ध रखने वाले मंत्र –

 

 

ज्योतिष में सूर्य ग्रह के अशुभ प्रभाव तथा सूर्य ग्रह की शांति के लिए कई प्रकार का वर्णन है जिनमे सूर्य ग्रह के वैदिक मंत्र ,तांत्रिक मंत्र ,और वीज मंत्र का प्रमुख रूप से उल्लेख हुआ है। जिन व्यक्तियो की राशि सिंह है उन्हें सूर्य ग्रह के मंत्र का जाप करने से शुभ फल प्राप्त होता है ,क्यों कि सूर्य ग्रह को सिंह राशि का स्वामी माना जाता है।

 

 

 

नवग्रह मंत्र Pdf Download

 

 

 

 

Navgrah Mantra In Hindi Pdf
Navgrah Mantra In Hindi Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Navgrah Mantra In Hindi Pdf
Yamal Tantra Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Navgrah Mantra In Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Navgrah Mantra In Hindi Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

1 thought on “Navgrah Mantra In Hindi Pdf | नवग्रह मंत्र Pdf”

Leave a Comment