Rajatarangini Hindi Pdf / राजतरंगिणी हिंदी Pdf Download

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Rajatarangini Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Rajatarangini Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से  भारद्वाज संहिता Pdf Download कर सकते हैं।

 

 

 

Rajatarangini Hindi Pdf / राजतरंगिणी हिंदी पीडीऍफ़ 

 

 

 

पुस्तक का नाम  राजतरंगिणी
पुस्तक के लेखक  कल्हाना, दुर्गा प्रसाद 
पुस्तक की भाषा  हिंदी 
पुस्तक की साइज  24.35 MB
कुल पृष्ठ  984
फॉर्मेट  PDF
श्रेणी  इतिहास 

 

 

राजतरंगिणी हिंदी पीडीऍफ़ डाउनलोड 

 

 

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिए

 

 

 

अब विलंब किस कारण से किया जाय? वानरों को तुरंत आज्ञा दो। भगवान की यह लीला देखकर बहुत से फूल बरसाते हुए और हर्षित होकर देवता आकाश से अपने-अपने लोक को चले।

 

 

 

34- दोहा का अर्थ-

 

 

 

वानर राज सुग्रीव ने शीघ्र ही वानरों को बुलाया सेनापतियों के समूह आ गए। वानर भालुओ के झुण्ड अनेक रंगो के है और उनमे अतुलनीय बल है।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

वह सभी प्रभु के चरण कमल में सिर नवाते है। महान बलवान रीछ और वानर गरज रहे है। श्री राम जी ने वानरों की सारी सेना को देखा। तब राजीव नयन ने उनकी ओर दृष्टि डाली।

 

 

 

 

राम की कृपा का बल मिलने से श्रेष्ठ वानर मानो पंख वाले पर्वत हो गए। तब श्री राम जी ने हर्षित होकर प्रस्थान किया। अनेक सुंदर और शुभ शकुन हुए।

 

 

 

 

जिनकी कीर्ति सब मंगल से पूर्ण है। उनके प्रस्थान के समय शकुन का होना यह नीति है। प्रभु का प्रस्थान जानकी जी ने भी जान लिया। उनके बाए अंग फड़क कर मानो कह दे रहे है कि श्री राम जी आ रहे है।

 

 

 

 

जानकी जी के लिए जो शकुन होते थे वही रावण के लिए अपशकुन होने लगे। सेना चली उसका वर्णन कौन कर सकता है? असंख्य वानर और भालू गर्जना कर रहे है।

 

 

 

 

नख ही जिनके शस्त्र है। वह इच्छानुसार सर्वत्र वे रोक टोक चलने वाले रीछ वानर पर्वतो और वृक्षों को धारण किए कोई आकाश मार्ग से और कोई पृथ्वी पर चले जा रहे है। वह सभी सिंह के समान गर्जना कर रहे है। उनके चलने और गरजने से दिशाओ के हाथी विचलित होकर चिंघाड़ रहे है।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Rajatarangini Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment