Ravan Samhita Pdf / रावण संहिता Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Ravan Samhita Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Ravan Samhita Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Kavya Prakash Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Ravan Samhita Pdf Download

 

 

Ravan Samhita Pdf
Ravan Samhita Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Ravan Samhita Pdf
Ramayan In Hindi Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

शिव जी कहते है अयोध्यापुरी का और अनेक प्रकार की राजनीती का वर्णन करते हुए भुशुण्डि जी ने वह सब कथा कही जो हे भवानी! मैंने तुमसे कही। सारी रामकथा सुनकर पक्षीराज गरुण जी मन में बहुत आनंदित होकर वचन कहे।

 

 

 

 

श्री रघुनाथ के सब चरित्र मैंने सुने जिससे मेरा संदेह समाप्त हो गया। हे काकशिरोमणि! आपके अनुग्रह से श्री राम जी के चरणों में मुझे प्रेम उत्पन्न हो गया। युद्ध में प्रभु का नागपाश से बंधन देखकर मुझे अत्यंत मोह उत्पन्न हो गया था कि श्री राम जी तो सच्चिदानंद है वह किस कारण व्याकुल है।

 

 

 

 

बिलकुल ही लौकिक मनुष्यो के जैसा चरित्र देखकर मेरे हृदय में भारी संदेह हो गया। मैं अब उस संदेह को अपने लिए हितकर समझता हूँ। कृपानिधान ने मुझपर बहुत ही अनुग्रह किया। जो धूप से व्याकुल होता है वही वृक्ष की छाया का सुख जानता है। हे तात! मुझे अत्यंत मोह न होता तब मैं आपसे किस प्रकार मिलता?

 

 

 

 

और कैसे यह विचित्र सुंदर हरिकथा सुनता जो आपने बहुत प्रकार से गयी है। वेद, शास्त्र और पुराणों का यही मत है सिद्ध और मुनि भी यही कहते है इसमें संदेह नहीं कि शुद्ध और सच्चे संत उसी को मिलते है जिसे श्री राम कृपा करके देखते है। श्री राम जी के कृपा से ही मुझे आपके दर्शन हुए और आपकी कृपा से ही मेरा संदेह मिट गया।

 

 

 

 

पक्षीराज गरुण जी की विनय और प्रेम युक्त वाणी सुनकर काकभुशुण्डि जी का शरीर पुलकित हो गया। उनके नयन जल से पूर्ण हो गए और वह मन में अत्यंत हर्षित हुए। हे उमा! सुंदर बुद्धि वाले, सुशिल, पवित्र कथा के प्रेमी और हरि के सेवक श्रोता के मिलने पर सज्जन गोपनीय रहस्य को भी प्रकट कर देते है।

 

 

 

 

काकभुशुण्डि जी ने फिर कहा – पक्षीराज पर उनका बहुत प्रेम था। हे नाथ! आप सब प्रकार से मेरे पूज्य है और श्री रघुनाथ जी के कृपा पात्र है। आपको न संदेह है और न मोह अथवा माया है। हे नाथ! आपने तो मुझपर दया किया है। हे पक्षीराज! मोह का तो बहाना मात्र था, श्री रघुनाथ जी ने आपको यहां भेजकर मुझे बड़ाई दी है।

 

 

 

 

हे पक्षियों के स्वामी! आपने तो अपना मोह कहा, सो हे गोसाई! यह कुछ आश्चर्य नहीं है। नारद जी, शिव जी और हे सनकादि जो आत्मतत्व के मर्मज्ञ और उसका उपदेश करने वाले श्रेष्ठ मुनि है। उनमे किस-किस को मोह ने विवेक शून्य नहीं किया? जगत में ऐसा कौन है जिसे काम ने न नचाया हो? तृष्णा ने किसको मतवाला नहीं बनाया? क्रोध ने किसको दग्ध नहीं किया?

 

 

 

 

इस संसार में ऐसा कौन ज्ञानी, तपस्वी, शूरवीर, कवि, विद्वान और गुणों का धाम है जिसकी लोभ ने मिट्टी पलीद न की हो। लक्ष्मी के मद ने किसको टेढ़ा और प्रभुता ने किसको बहरा नहीं कर दिया? ऐसा कौन है जिसे मृगनयनी के नयन न लगे हो?

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Ravan Samhita Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Ravan Samhita Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment