Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf / सकट चौथ कथा इन हिंदी Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Narayan Kavach Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf Download

 

 

 

पुस्तक का नाम  Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf
पुस्तक के लेखक 
फॉर्मेट  Pdf 
साइज  0.3 Mb
पृष्ठ 
भाषा  हिंदी 
श्रेणी  व्रत कथा 

 

 

 

 

Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf
Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf
Karwa Chauth Katha In Hindi Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

सबके प्रेम रस में सने हुए वचन सुनकर श्री रघुनाथ जी हृदय में हर्षित हुए। फिर प्रभु से आज्ञा लेकर सब प्रभु की सुंदर बात चीत का वर्णन करते हुए अपने घर गए। शिव जी कहते है – हे उमा! अयोध्या में रहने वाले पुरुष और स्त्री सभी कृतार्थ स्वरुप है। जहां स्वयं सच्चिदानंद घन ब्रह्म श्री रघुनाथ जी राजा है।

 

 

 

 

एक बार मुनि वशिष्ठ जी वहां आये जहां सुंदर सुख के धाम श्री राम जी थे। श्री राम जी ने उनका बहुत ही आदर सत्कार किया और उनके चरण धोकर चरणामृत लिया। मुनि ने हाथ जोड़कर कहा – हे कृपासागर श्री राम जी! मेरी कुछ विनती सुनिए। आपको मनुष्योचित चरित्रों को देखकर मेरे हृदय में अपार मोह उत्पन्न होता है।

 

 

 

 

 

हे भगवान! आपके महिमा की सीमा नहीं है। उसे वेद भी नहीं जानते। फिर मैं किस प्रकार कह सकता हूँ? पुरोहिती का कर्म बहुत ही नीचा है। वेद पुराण और स्मृति सभी इसकी निंदा करते है। जब मैं सूर्यवंश की पुरोहिती का काम नहीं लेता था तब ब्रह्मा जी ने मुझे कहा था – हे पुत्र! इसमें तुमको आगे चलकर बहुत लाभ होगा। स्वयं ब्रह्म परमात्मा मनुष्य का रूप धारण कर रघुकुल के भूषण राजा होंगे।

 

 

 

 

तब मैंने हृदय में विचार किया कि जिसके लिए योग, यज्ञ, व्रत और दान किए जाते है उसे मैं इसी कर्म से प्राप्त कर लूंगा तब तो इसके समान कोई दूसरा धर्म ही नहीं है।

 

 

 

 

जप, तप, नियम, योग अपने वर्णाश्रम के धर्म, श्रुतुयों से उत्पन्न, वेद विहित, बहुत से शुभ कर्म ज्ञान, दया, दम, तीर्थस्थान आदि जहां तक वेद और संतो ने धर्म कहे है। तथा हे प्रभो! अनेक तंत्र, वेद और पुराणों के पढ़ने और सुनने का सर्वोत्तम फल एक ही है और सब साधनो का भी यही एक सुंदर फल है कि आपके चरण कमल में सदा सर्वदा प्रेम हो।

 

 

 

 

 

मैल से धोने से क्या मैल छूटता है? जल के मथने से क्या किसी को घी प्राप्त हो सकता है? उसी प्रकार हे रघुनाथ जी! प्रेम भक्ति रूपी निर्मल जल के बिना अन्तः करण का मल कभी नहीं जाता है। वही सर्वज्ञ है, वही तत्वज्ञ और पंडित है, वही गुणों का घर और अखंड विद्वान है वही चतुर और सब सुलक्षणो से युक्त है जिसका आपके चरण कमलो में प्रेम है।

 

 

 

 

हे नाथ! हे श्री राम जी! मैं आपसे एक वर मांगता हूँ कृपा करके दीजिए। प्रभु आपके चरण कमल में मेरा जन्म-जन्मांतर भी कभी न घटे।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Sakat Chauth Katha In Hindi Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment