15 + Short Play Script in Hindi Pdf / प्ले स्क्रिप्ट इन हिंदी पीडीऍफ़

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Short Play Script in Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Short Play Script in Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Hindi Drama Script For Children Pdf Download कर सकते हैं।

 

 

 

Short Play Script in Hindi Pdf / प्ले स्क्रिप्ट इन हिंदी Pdf 

 

 

 

Short Play Script in Hindi Pdf
चार दिन दो गुलाब 

 

 

 

2- रत्नावली 

 

3- अँधेरे में उजाला 

 

4-  mudrarakshasa pdf hindi free मुद्रा राक्षस पीडीएफ फ्री डाउनलोड

 

5- Panna-Dhay पन्ना धाय ड्रामा स्क्रिप्ट डाउनलोड

 

6- तीस मार खां Free Drama Script Download

 

7- काली नागिन Hindi Play Scripts Pdf

 

8- ब्रह्मराक्षस का नाई 

 

9- ज़हर – ए – इश्क़ hindi comedy natak script

 

10-बेग़म का तकिया 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

सब स्त्री पुरुष सहित सखियां और सारा रनिवास विशेष प्रेम के वश हो गया। ऐसा प्रतीत हो रहा है मानो जनकपुर में करुणा और विरह ने डेरा डाल दिया है।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- जनक जी ने जिन तोता और मैना को पाल-पोसकर बड़ा किया था और उन्हें सोने के पिंजरो में रखकर पढ़ाया था। वह सब व्याकुल होकर कह रहे है – वैदेही कहा है। उनके ऐसे वचन को सुनकर किसका धीरज नहीं छूट जायेगा। अर्थात सबका धीरज जाता रहा।

 

 

 

2- जब पक्षियों और पशुओ के विकल होने से ऐसी हालत हो गई, तब मनुष्यो की दशा का वर्णन कैसे हो सकता है। तब भाई सहित जनक जी वहां आये, प्रेम से उमड़कर उनके नयनो में भी जल भर आया।

 

 

 

3- जनक जी परम वैराग्यवान कहलाते थे, पर सीता जी को देखकर उनका भी धीरज भाग गया। राजा ने जानकी जी को हृदय से लगा लिया, प्रेम का प्रवाह इतना अधिक था कि ज्ञान का बाँध टूट गया और ज्ञान की महान मर्यादा मिट गई।

 

 

 

 

4- सब बुद्धिमान मंत्री उन्हें समझाने लगे। तब राजा ने विशद करने का समय न जानकर विचार किया और बारंबार पुत्रियों को हृदय से लगाकर सुंदर सजी हुई पालकी मंगवाई।

 

 

 

338- दोहा का अर्थ-

 

 

 

सारा परिवार प्रेम के विवश है। राजा ने सुंदर मुहूर्त जानकर, सिद्धि सहित गणेश जी का स्मरण करके कन्याओ को पालकियों पर चढ़ाया।

 

 

 

चौपाई का अर्थ-

 

 

 

1- राजा ने पुत्रियों को बहुत प्रकार समझाया और उन्हें स्त्रियों का धर्म और कुल की रीति सिखाई। बहुत से दासी, दास दिए जो सभी सीता जी के प्रिय और विश्वास पात्र सेवक थे।

 

 

 

2- सीता जी के चलते हुए सभी जनकपुर वासी व्याकुल हो गए। मंगल राशि शुभ शगुन हो रहे है। मंत्रियों के समाज सहित राजा जनक उन्हें पहुंचाने के लिए साथ चले।

 

 

 

3- समय देखकर बाजे बजने लगे, बारातियो ने रथ, हाथी और घोड़े सजाये। दशरथ जी ने सब ब्राह्मणो को बुला लिया और उन्हें दान और सम्मान से परिपूर्ण कर दिया।

 

 

 

4- उनके चरण कमल की धूलि को सिर के ऊपर रखकर और आशीष पाकर राजा आनंदित हुए और गणेश जी का स्मरण करके उन्होंने प्रस्थान किया। मंगमूल अनेको शगुन होने लगे।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Short Play Script in Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Short Play Script in Hindi Pdf Free Download की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Comment