स्वास्थ्य रक्षा Pdf / Swasthya Raksha PDF In Hindi

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Swasthya Raksha PDF In Hindi देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Swasthya Raksha PDF In Hindi Download कर सकते हैं और यहां से All Vedas in Hindi Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

 

 

 

Swasthya Raksha PDF In Hindi

 

 

पुस्तक का नाम  Swasthya Raksha PDF In Hindi
पुस्तक के लेखक  बाबू हरिदास बैध 
साइज  3895.1 Mb 
पृष्ठ  496 
भाषा  हिंदी 
श्रेणी  आयुर्वेद 
फॉर्मेट  Pdf 

 

 

 

स्वास्थ्य रक्षा Pdf Download

 

 

Swasthya Raksha PDF In Hindi
Swasthya Raksha PDF In Hindi Download यहां से करे।

 

 

Swasthya Raksha PDF In Hindi
Godan Upanyas Pdf In Hindi यहां से डाउनलोड करे।

 

 

Swasthya Raksha PDF In Hindi
R-Wing Part 2 यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये

 

 

कौरवों के साथ पासा का खेल हारने पर पांचों पांडव राजकुमारों और द्रौपदी को बारह साल के लिए वनवास दिया जाता है। अपनी तीर्थयात्रा पर, वे ऋषि लोमण से मिलते हैं, और वह पांडव राजकुमारों को महाभारत के वन पर्व के तीन अध्यायों में अष्टावक्र की कथा सुनाते हैं।

 

 

 

मानव अस्तित्व के विभिन्न पहलुओं पर अष्टावक्र के ज्ञान का वर्णन महाभारत में किया गया है। उदाहरण के लिए – धूसर सिर से वृद्ध, नहीं होता, न वर्षों से, न धूसर बालों से, न धन से और न सम्बन्धियों से, न द्रष्टाओं ने व्यवस्था बनाई, जो हमारे लिए महान है , वही ज्ञानी है। 

 

 

 

अष्टावक्र गीता

हिन्दू धर्म मे श्रीमद भगवत गीता को सबसे पवित्र ग्रंथ माना जाता है। लेकिन कहा जाता है, कि महान विद्वान अष्टावक्र के द्वारा लिखी गयी गीता जिसे महागीता के नाम से भी संबोधित किया जाता है। उसकी श्रीमद भगवत गीता से कोई तुलना नही है। महागीता मे लिखे गए हर श्लोक मे बहुत ही महान बाते कम शब्दों मे बताई गयी है इसलिए एक बार अष्टवक्र गीता का अध्ययन जरूर करना चाहिए।

 

 

 

अष्टावक्र गीता प्रस्तावना हिन्दी में

अष्टावक्र गीता ज्ञान योग की सबसे महत्त्वपूर्ण पुस्तकों में से एक है जिसकी प्रशंसा श्री रामकृष्ण परमहंस और श्री रमण महर्षि ने भी की है। जैसे गीता में श्रीकृष्ण और अर्जुन का संवाद है वैसे ही अष्टावक्र गीता के श्रोता श्री जनक और वक्ता श्री अष्टावक्र जी हैं।

 

 

 

गीता में कर्म, ज्ञान और भक्ति तीनों का वर्णन हुआ है पर अष्टावक्र गीता में केवल ज्ञान योग का ही विवेचन हुआ है। अष्टावक्र के नाना ऋषि उद्दालक का छान्दोग्य उपनिषद् में एक ब्रह्मज्ञानी के रूप में उल्लेख किया गया है। वेदांत के सबसे महत्त्वपूर्ण महावाक्य तत्त्वमसि का उपदेश इनके नाना उद्दालक के द्वारा इनके मामा श्वेतकेतु को दिया गया है जो अष्टावक्र के समवयस्क हैं, अतः अष्टावक्र उपनिषद् कालीन ऋषि हैं।

 

 

 

वाल्मीकि रामायण के युद्धकाण्डमें अष्टावक्र ऋषि का बड़े आदर से उल्लेख हुआ है। रावण-वध के पश्चात्, देवराज इंद्र के साथ राजा दशरथ अपने प्रिय पुत्र श्रीराम से मिलने आते हैं, उस समय वे श्रीराम से कहते हैं–“हे महात्मा राम तुम्हारे जैसे सुपुत्र के द्वारा मैं वैसे ही बचा लिया गया हूँ जैसे कि धर्मात्मा कहोड ब्राह्मण अपने पुत्र अष्टावक्र के द्वारा।”

 

 

 

हिन्दू धर्म में अष्टावक्र गीता अद्वैत वेदान्त का ग्रन्थ है जो ऋषिअष्टावक्र और राजा जनक के संवाद के रूप में है। भगवद्गीता, उपनिषद और ब्रह्मसूत्र के सामान अष्टावक्र गीता अमूल्य ग्रन्थ है। इस ग्रन्थ में ज्ञान, वैराग्य, मुक्ति और समाधिस्थ योगी की दशा का सविस्तार वर्णन है।

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Swasthya Raksha PDF In Hindi आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Swasthya Raksha PDF In Hindi की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.