Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf / तुजुक – ए – जहांगीरी Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी Pdf Download कर सकते हैं।

 

 

 

Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf Download

 

 

पुस्तक का नाम  Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf
पुस्तक के लेखक  डा. मथुरालाल शर्मा 
साइज  28.45 Mb 
पृष्ठ  390 
फॉर्मेट  Pdf 
भाषा  हिंदी 
श्रेणी  जीवनी 

 

 

Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf
Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Tuzk E Babri In Hindi Pdf
तुजुक – ए – बाबरी Pdf Download

 

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

पार्वती जी बोली – सखी चंचले! सुंदरी! मैं तुम्हारी की हुई इस स्तुति से बहुत प्रसन्न हूँ। बोलो  मांगती हो? तुम्हारे लिए मुझे कुछ भी अदेय नहीं है। चंचला बोली – निष्पाप गिरिराज कुमारी! मेरे पति बिन्दुग इस समय कहाँ है उनकी कैसी गति हुई है यह मैं नहीं जानती।

 

 

 

 

कल्याणमयी दीन वत्सले! मैं अपने उन पतिदेव से जिस प्रकार संयुक्त हो सकूं वैसा ही उपाय कीजिए। महेश्वरी! महादेवी! मेरे पति एक शूद्र जातीय के प्रति आसक्त थे और पाप में डूबे रहते थे। उनकी मृत्यु मुझसे पहले ही हो गयी थी। न जाने वे किस गति को प्राप्त हुए।

 

 

 

 

गिरिजा ने कहा – बेटी! तुम्हारा बिन्दुग नाम वाला पति बड़ा पापी था। उसका अन्तःकरण बड़ा ही दूषित है। वह महामूढ़ मृत्यु के बाद नरक में पड़ा अगणित वर्षो तक नरक में अनेक प्रकार के दुःख भोगकर वह पापात्मा अपने शेष पाप को भोगने के लिए विंध्य पर्वत पर पिशाच हुआ है।

 

 

 

 

इस समय वह पिशाच अवस्था में ही है और अनेक प्रकार के क्लेश उठा रहा है। वह वही वायु पीकर रहता और हमेशा सब प्रकार के कष्ट सहता है। सूत जी कहते है – शौनक! गौरी देवी की यह बात सुनकर उत्तम व्रत का पालन करने वाली चंचला उस समय पति के महान दुःख से दुखी हो गयी।

 

 

 

 

फिर मन को स्थिर करके उस ब्राह्मण पत्नी ने व्यथित हृदय से महेश्वरी को नमस्कार करके फिर पूछा। चंचला बोली – महेश्वरी! महादेवी! मुझपर कृपा कीजिए और मेरे उस पति का अब उद्धार कर दीजिए। देवी! कुत्सित बुद्धि वाले उस पापात्मा पति को किस उपाय से उत्तम गति प्राप्त हो सकती है यह शीघ्र बताइये आपको नमस्कार है।

 

 

 

 

 

पार्वती जी ने कहा – तुम्हारा पति यदि शिव पुराण की पुण्यमयी उत्तम कथा सुने तो सारी दुर्गति को पार करके वह उत्तम गति का भागी हो सकता है। अमृत के समान मधुर अक्षरों से युक्त गौरी का यह वचन आदर पूर्वक सुनकर चंचला ने हाथ जोड़ मस्तक झुकाकर उन्हें बारंबार प्रणाम किया।

 

 

 

 

 

फिर अपने पति के समस्त पापो की शुद्धि और उत्तम गति की प्राप्ति के लिए पार्वती देवी से यह प्रार्थना की कि मेरे पति को शिव पुराण सुनाने की व्यवस्था होनी चाहिए। उस ब्राह्मण पत्नी के बारंबार प्रार्थना करने पर शिव प्रिया गौरी देवी को बड़ी दया आ गयी।

 

 

 

 

उन भक्त वत्सला महेश्वरी गिरिराज कुमारी ने भगवान शिव की उत्तम कीर्ति का गान करने वाले गंधर्वराज तुम्बुरु को बुलाकर उनसे प्रसन्नता पूर्वक इस प्रकार कहा – तुंबुरो! तुम्हारी भगवान शिव में प्रीति है। तुम मेरे मन की बातों को जानकर मेरे अभीष्ट कार्यो को सिद्ध करने वाले हो।

 

 

 

 

इसलिए मैं तुमसे एक बात कहती हूँ। तुम्हारा कल्याण हो। तुम मेरी इस सखी के साथ शीघ्र ही विंध्य पर्वत पर जाओ। वहां पर एक महाघोर और भयंकर पिशाच रहता है। उसका वृतांत तुम आरम्भ से ही सुनो। मैं तुमसे प्रसन्नता पूर्वक सब कुछ बताती हूँ।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Tuzk E Jahangiri in Hindi Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

Leave a Comment