Vashikaran Mantra in Hindi Pdf / वशीकरण मंत्र Pdf

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको Vashikaran Mantra in Hindi Pdf देने जा रहे हैं, आप नीचे की लिंक से Vashikaran Mantra in Hindi Pdf Download कर सकते हैं और आप यहां से Apsara Sadhana Book Pdf कर सकते हैं।

 

 

 

Vashikaran Mantra in Hindi Pdf Download

 

 

 

Vashikaran Mantra in Hindi Pdf
Vashikaran Mantra in Hindi Pdf यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

Vashikaran Mantra in Hindi Pdf
Kaal Bhairav Ashtakam Pdf Hindi यहां से डाउनलोड करे।

 

 

 

 

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

सिर्फ पढ़ने के लिये 

 

 

 

मैंने ज्ञान का सिद्धांत समझाकर कहा। अब भक्ति रूपी मणि की महिमा सुनिए। श्री राम जी की भक्ति सुंदर चिंतामणि है। हे गरुण जी! वह जिसके हृदय के अंदर बसती है वह दिन रात अपने आप परम प्रकाश रूप रहता है। उसको दीपक घी और बत्ती कुछ भी नहीं चाहिए।

 

 

 

 

फिर मोह रूपी दरिद्रता समीप नहीं आती क्योंकि मणि स्वयं ही धन रूप है और लोभ रूपी हवा उस मणिमय दीपक को नहीं बुझा सकती है क्योंकि मणि स्वयं प्रकाश रूप है इस प्रकार मणि एक तो स्वाभाविक प्रकाश रहता है। वह किसी दूसरे की सहायता से प्रकाश नहीं करती है।

 

 

 

 

काकभुशुण्डि जी ने कहा – हे पक्षीराज गरुण जी! सुनिए, इसमें ऋषि का कुछ भी दोष नहीं था। रघुवंश के विभूषण श्री राम जी ही सबके हृदय में प्रेरणा करने वाले है। कृपासागर प्रभु ने मुनि की बुद्धि को भुलावा देकर प्रेमी की परीक्षा लिया। मन, वचन और कर्म से जब प्रभु ने मुझे अपना दास जान लिया तब भगवान ने मुनि की बुद्धि फिर पलट दिया।

 

 

 

 

ऋषि ने मेरा महान पुरुषो के जैसा स्वभाव धैर्य, अक्रोध, विनय आदि और श्री राम जी के चरणों में विशेष विश्वास देखा। तब मुनि ने मुझे बहुत दुःख के साथ बार-बार पछताकर मुझे आदर पूर्वक बुला लिया। उन्होंने अनेक प्रकार से मेरा संतोष किया और तब हर्षित होकर मुझे राम मंत्र दिया।

 

 

 

 

कृपानिधान मुनि ने मुझे बालक रूप श्री राम जी की ध्यान विधि बतलाया। सुंदर और सुख देने वाला यह ध्यान मुझे बहुत ही अच्छा लगा। वह ध्यान मैं आपको पहले ही सुना चुका हूँ। मुनि ने कुछ समय तक वहां अपने पास रखा। तब उन्होंने राम चरित मानस वर्णन किया। आदर पूर्वक वह मुझे कथा सुनाकर फिर मुनि मुझसे सुंदर वाणी बोले।

 

 

 

 

हे तात! यह सुंदर और गुप्त राम चरित मानस मैंने शिव जी की कृपा से प्राप्त किया था। तुम्हे श्री राम जी का निज भक्त जानकर इससे मैंने तुमसे सब चरित्र विस्तार के साथ कहा। हे तात! जिनके हृदय में श्री राम जी की भक्ति नहीं है उनके सामने इसे कभी नहीं कहना चाहिए।

 

 

 

मुनि ने मुझे बहुत प्रकार से समझाया। तब मैंने प्रेम के साथ मुनि के चरणों में सिर नवाया। मुनीश्वर ने अपने कर कमलो से मेरा सिर स्पर्श करके हर्षित होकर आशीर्वाद दिया कि अब मेरी कृपा से तेरे हृदय में सदा प्रगाढ़ राम भक्ति बसेगी।

 

 

 

तुम सदा श्री राम जी को प्रिय रहो और कल्याण रूप गुण के धाम, मान रहित इच्छानुसार रूप धारण में समर्थ, इच्छा मृत्यु एवं ज्ञान और वैराग्य के भंडार हो जाओ। इतना ही नहीं श्री भगवान को स्मरण करते हुए तुम जिस आश्रम में निवास करोगे वहां एक योजन तक अविद्या और माया मोह नहीं व्यापेगी।

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट Vashikaran Mantra in Hindi Pdf आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें और Vashikaran Mantra in Hindi Pdf की तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.